जयपुर

देशप्रेमियों को आज भी प्रेरणा देता है प्रताप का संघर्ष राज्यपाल,पंजाब

Pratap's struggle, governor, Punjab
जयपुऱ। पंजाब के राज्यपाल श्री वीपी सिंह बदनौर ने कहा है कि महाराणा प्रताप ने अपने सिद्धांतों एवं आदर्शों के लिए संघर्ष कर स्वाधीनता और मातृभूमि प्रेम का एक दृष्टिकोण दिया, जो बाद में भी सदैव अपनी स्वाधीनता की परवाह करने वालों का मागदर्शन करते हुए उन्हें प्रेरणा देता रहा है। राज्यपाल रविवार को प्रतापगढ़ के मिनी सचिवालय स्थित महाराणा प्रताप स्मारक उनकी 477 वीं जयंती पर मेवाड़ क्षत्रिय महासभा, नगर परिषद, करणी सेना एवं स्वयंसेवी संस्थाआें, संगठनाें के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि औरंगजेब के शासन काल में सिक्खों के दसवें गुरु गोविंद सिंह भी मेवाड़ आए थे, संभवतः महाराणा प्रताप के संघर्ष से उन्हें भी प्रेरणा मिली होगी। उन्होंने कहा कि गुरु गोविंद सिंह के खालसा पंथ के ध्येयवाक्य ‘वाहे गुरु दा खालसा, वाहे गुरु दी फतह’ में मेवाड़ का ध्येयवाक्य ‘जो दृढ राखै धर्म को, ताहि राखे करतार’ का दर्शन प्रतिबिंबित होता है। उन्होंने कहा कि महाराणा  प्रताप ने विभिन्न वर्गों को अपने साथ जोड़कर मातृभूमि से रक्षा के लिए लड़ाई लड़ी। उनके संघर्ष के बारे में सोचकर ही प्रेरणा मिलती है। उन्होंने बताया कि पंजाब यूनिवर्सिटी में स्थापित महाराणा प्रताप पीठ के माध्यम से उनके जीवन के बारे में शोध किया जाएगा।  उन्होंने प्रतापगढ़ शहर की सफाई व्यवस्था के लिए सभापति श्री कमलेश डोसी की मुक्तकंठ से सराहना की।
समारोह की अध्यक्षता करते हुए पंजाब के विधानसभा अध्यक्ष राणा केपी सिंह ने कहा कि महाराणा प्रताप की जयंती दुनिया के समस्त आजादी के विश्वास रखने वाले लोगों के लिए महत्वपूर्ण दिन है और मेवाड़ की मिट्टी का जर्रा-जर्रा ऎसे लोगों के लिए पे्ररणा का स्रोत है। उन्होंने कहा कि महाराणा प्रताप भारतीय संस्कृति की ‘जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी’ की सोच के बड़े पहरेदार रहे और मातृभूमि के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर किया।  संघर्ष का जो नायाब तरीका प्रताप ने इजाद किया, उसी पर चलकर आगे सिक्खों और मराठों ने मुगलों को कमजोर किया। उन्होंने बताया कि महाराणा के जीवन, दर्शन और तथ्यों पर रिसर्च के लिए महाराणा प्रताप पीठ की स्थापना की गई है। पंजाब के भी हर छोटे-बड़े गांव में महाराणा प्रताप जयंती श्रद्धा से मनाई जाती है।
जैन मुनि सुनील सागर ने कहा कि महाराणा प्रताप ने सांसारिकता का आदर्श रूप प्रस्तुत किया क्योंकि मातृभूमि की रक्षा के लिए तलवार लेकर खड़े होना ही सच्चा क्षत्रीय धर्म है। जिस तरह भगवान महावीर ने आत्मा के निखार के लिए जंगल को चुना, वैसे ही महाराणा प्रताप ने स्वाधीनता की रक्षा के लिए महलों को छोड़ा। महावीर ने भीतर के शत्रुओं को जीता और महाराणा प्रताप बाहरी शत्रुओं से लड़े। उन्होंने कहा कि महाराणा प्रताप की तरह ही हिंदुस्थान के दूसरे राजाओं ने भी संघर्ष किया होता तो कोई हिंदुस्थान को पराधीन नहीं बना सकता था। उन्होंने शराब से परहेज करने की बात पर बल देते हुए कहा कि महाराणा प्रताप लोगों को जोड़ने की अपनी सोच के चलते ही ‘महाराणा प्रताप द ग्रेट’ बने।
विशिष्ट अतिथि श्री सांसद सीपी जोशी ने कहा कि महाराणा प्रताप जैसे योद्धा के कारण ही आज समूची दुनिया मेवाड़ को सम्मान की नजर से देखती है। जोशी ने कहा उन्होंने महाराणा प्रताप पर डाक टिकट के लिए प्रधानमंत्री से अनुरोध किया था, जिस पर उन्होंने डाक टिकट जारी करवाया है। अब उनके अनुरोध पर झाला मान पर भी डाक टिकट के लिए स्वीकृति मिली है। उनकी कोशिश रहेगी कि झाला के बलिदान दिवस 18 जून पर यह टिकट जारी हो। उन्होंने कहा कि महाराणा प्रताप के आदर्श आज भी हमें अपने स्वाभिमान की रक्षा और मातृभूमि से प्रेम की प्रेरणा देते हैं।
सभापति श्री कमलेश डोसी, श्री मनोहर सिंह कृष्णावत, श्री अशोक सिंह आदि ने भी विचार व्यक्त किए। मेवाड़ क्षत्रिय सभा के जिलाध्यक्ष श्री डीडी सिंह राणावत ने अतिथियों का स्वागत किया।  इस मौके पर जिला कलक्टर सुश्री नेहा गिरि, एसपी श्री शिवराज मीणा, धरियावद विधायक श्री गौतम मीणा, सहित विशिष्ट व्यक्ति मंचस्थ थे।
इससे पूर्व राज्यपाल श्री बदनौर एवं समस्त अतिथियों ने मिनी सचिवालय परिसर में स्थित महाराणा प्रताप स्मारक पर पुष्प अर्पित किए। इस दौरान राज्यपाल ने विभिन्न प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विद्यार्थियों का सम्मान किया।
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top