रोचक खबरें

क्या आप जानते हैं, फोन उठाते ही क्यों बोलते हैं हैलो…

Do you know, why do you speak after raising the phone Hello

आज की इस इतनी बड़ी आबादी में लगभग सबके पास मोबाइल फोन, स्मार्ट फोन, एंड्राय फोन हैं सब ना जानें कितनी बार फोन का इस्तेमाल करते हैं, और शायद इस जीवन में इंसान मोबाइल के बिना बिल्कुल भी नहीं रह सकता हैं, ये लोगों के दिनचर्या में शामिल हो गया है।
हम जब भी कॉल करते हैं, या फिर हमारे पास कॉल आता हैं तो हमारे मुंह से सीधा यहीं निकलता हैं कि हेलों कौन, हम ना जानें दिन में कितनी ही बार हेलों, हेलों, हेलों बोलते हैं लेकिन क्या आपने कभी सोचा हैं कि ये हेलो शब्द कहा से आया।

पहले हाला, फिर होला और फिर हैलों- ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी के अनुसार हाला और होला इन दो शब्दों की हैलो के निर्माण में अहम भूमिका रही हैं, फ्रांसीसी शब्द ‘होला’ का मतलब होता है ‘कैसे हो’ यानी, हाल कैसा है? दो सौ साल बाद यानी शेक्सपियर जब का ज़माना आया तब तक ये शब्द हैलो बन चुका था।

कैसे हुई शुरूआत:- अमेरिकी आविष्कारक थॉमस एल्वा एडीसन ने पहली बार जब फोन किया तो उनके मुंह से हलो निकला।

और हम बोलते हैं हैलो- दरअसल टेलीफोन के आविष्कारक ग्राहम बेल की गर्लफ्रेंड का नाम मारग्रेट हैलो थाा, वे जब भी अपनी गर्लफ्रेंड से बात करते थे या मिलते थे तो हैल्लो कहकर पुकारते थे। बस वहीं से ये शब्द चलन में आ गया। जिसे आज हम सभी बोलते हैं।
आपको बतादें कि सन 1877 में टॉमस एडीसन ने टेलीफोम के स्वाग के रूप में हैलो का इस्तेमाल किया जाना चाहिए, इसके लिए उन्होंने ट्रल डिस्ट्रिक्ट एंड प्रिंटिंग टेलीग्राफ कम्पनी के अध्यक्ष से सिफारिश की थी, और तब से हम आज तक फोन उठाते ही हैलो बोलते है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top