बीकानेर

मंदिरों के बकाया आरोग्य-भोग राशि बढ़ाकर दिलाने की मांग

Demand for extending outstanding health benefits to the temples
छोटीकाशी डॉट कॉम ब्यूरो बीकानेर। बीकानेर संभाग के चूरू जिले के सादुलपुर (राजगढ़) कस्बे के देवस्थान विभाग के अधीन आने वाले मंदिरों के बकाया आरोग्य-भोग राशि दिलाने की मांग संभाग के ही चूरू जिले के रतनगढ़ विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले देवसथान विभाग के मंत्री राजकुमार रिणवा से की गयी है।

छोटीकाशी डॉट कॉम न्यूज नेटवर्क के अनुसार राजगढ़ के लक्ष्मीनाथ मंदिर के पूजारी शंकरलाल भोजक, मुरली मनोहर मंदिर के पूजारी सुरेश कुमार स्वामी, सदाशिवजी मंदिर के पूजारी रामनिवास शर्मा, किला करणीजी मंदिर के पूजारी गोपाल शर्मा, बालमुकुंद जी मंदिर के पूजारी पवन कुमार सेवग व करणीमाता जी मंदिर के पूजारी पवन कुमार ने संयुक्त हस्ताक्षरित ज्ञापन मंत्री रिणवा के अलावा देवस्थान विभाग के उदयपुर में आयुक्त, देवस्थान विभाग के प्रमुख शासन सचिव के.के.पाठक को भी भेजा है जिसमें लिखा गया कि चूरू जिले के राजगढ़ कस्बे में राजकीय प्रत्यक्ष प्रभार छह मंदिर है जिनकी प्रतिमाह पूजा सामग्री व भोग की राशि मात्र छह सौ रुपए है जबकि सभी को पता है कि एक माह का दीपक का घी भी छह सौ रुपए में नहीं आता। सभी मंदिरों में प्रतिमाह घी, प्रसाद, चंदन, अगरबत्ती, कर्पूर, झाडू, पुष्प, फल आदि का न्यूनतम खर्चा 2500-3000 रुपए प्रतिमाह है।
पूजारियों ने आरोप लगाते हुए ज्ञापन में बताया कि बड़ी ही विडम्बना की बात है कि छह सौ रुपए प्रतिमाह की राशि भी गत दो सालों से अधिक समय से उक्त मंदिरों की जानबूझकर बकाया चल रही है। बकाया राशि के बारे में उक्त मंदिरों के पूजारियों ने बार-बार लिखित व मौखिक निवेदन भी किया है जबकि यह मंदिरों का अधिकार है। उसके बाद भी मात्र आश्वासन के कुछ नहीं मिल रहा है। यह कि अब तक यह राशि हमेशा ही तहसीलदार के दफ्तर द्वारा पूजारियों को बिना किसी बिल के देवस्थान विभाग के भेजने पर मिलती थी मगर अब दो सालों से उक्त राशि बैंक खातों में भेजने का आश्वासन देकर सभी पूजारियों के खाते भी खुलवा दिए मगर राशि नहीं भेजी गयी। पूजारियों ने यह भी बताया कि इसी महीने में नए निर्देश मिले हैं कि दो सालों से बकाया उक्त राशि के प्रतिमाह के (छह सौ रुपए) प्रतिमाह के बिल पेश किए जाएं। जबकि पूजारियों का सवाल है कि दो साल से भी अधिक समय के पुराने बिल वो भी मात्र छह सौ रुपए का पूरे हिन्दुस्तान में कौनसा व्यापारी बनाकर देगा, कौन ऐसे फर्जीवाड़े में डोलना चाहेगा। बिना पूजारियों को प्रताडि़त किए बकाया दो साल से अधिक समय से बकाया राशि का अतिशीघ्र भुगतान कराने की मांग की गयी है।
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top
Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com