धर्म-ज्योतिष

*दैनिक पंचाग व राशि फल* आगे पढ़ने के लिये आप अपने उँगली का स्पर्श *Reed Mor* पर करें।

Jyotish Sashikant Pandey: ज्योतिर्विद पं० शशिकान्त पाण्डेय (दैवज्ञ)
9930421132
🚩🚩🚩🚩🚩🕉🚩🚩🚩🚩🚩
*🌹जय जय श्री राधे राधे जी👏*
*🔅 13/02/2018,मंगलवार*
*🔅फाल्गुन , कृष्ण पक्ष त्रयोदशी*
*💫🔅🔅🔅🔅समाप्ति काल*
*तिथि———-त्रयोदशी22:34:40*    तक
*पक्ष————————-—-कृष्ण*
*नक्षत्र——-उत्तराषाढा28:56:16*
*योग—————सिद्वि14:31:52*
करण————–गरज09:21:28
करण———–वाणिज22:34:40
वार————————-मंगलवार
माह————————–फाल्गुन
चन्द्र राशि———- धनु08:47:56
चन्द्र राशि———————-मकर
सूर्य राशि———————- कुम्भ
रितु————————––शिशिर
आयन———————उत्तरायण
संवत्सर———————हेम्लम्बी
संवत्सर (उत्तर)———–साधारण
विक्रम संवत—————–2074
विक्रम संवत (कर्तक)——-2074
शाक संवत——————-1939
सूर्योदय—————–06:59:25
सूर्यास्त——————18:07:44
दिन काल—————11:08:19
रात्री काल————–12:50:54
चंद्रास्त——————16:01:39
चंद्रोदय——————29:49:23
*लग्न—- कुम्भ 0°11′ , 300°11’*
सूर्य नक्षत्र——————–धनिष्ठा
चन्द्र नक्षत्र—————उत्तराषाढा
नक्षत्र पाया———————-ताम्
*💫पद, चरण*
भे—-उत्तराषाढा 08:47:52
भो—-उत्तराषाढा 15:31:43
जा—-उत्तराषाढा 22:14:31
जी—-उत्तराषाढा 28:56:16
*💫ग्रह गोचर*
*ग्रह =राशी   , अंश  ,नक्षत्र,  पद*
सूर्य=मकर  00 ° 10,  धनिष्ठा , 3 गु
चन्द्र=धनु 27 ° 28′ उ o षा o ‘  1 भे
बुध=मकर 26 ° 51′ धनिष्ठा ‘2  गी
शुक्र=कुम्भ 08° 32′ शतभिषा , 1गो
मंगल=वृश्चिक 16°37 ‘अनुराधा ‘4 ने
गुरु=तुला 28 ° 17′  विशाखा , 3 ते
शनि=धनु   11 ° 55′   मूल   ‘4 भी
राहू=कर्क 20 ° 30 ‘आश्लेषा ,  2  डू
केतु=मकर   20 ° 30 ‘ श्रवण, 4 खो
*💫शुभा$शुभ मुहूर्त*
*👹राहू काल 15:21 – 16:44अशुभ*
यम घंटा 09:47 – 11:10अशुभ
गुली काल 12:34 – 13:57अशुभ
*अभिजित 12:11 -12:56शुभ*
दूर मुहूर्त 09:13 – 09:58अशुभ
दूर मुहूर्त 23:16 – 24:01*अशुभ
*चोघडिया, दिन*
रोग 06:59 – 08:23अशुभ
उद्वेग 08:23 – 09:47अशुभ
चाल 09:47 – 11:10शुभ
लाभ 11:10 – 12:34शुभ
अमृत 12:34 – 13:57शुभ
काल 13:57 – 15:21अशुभ
शुभ 15:21 – 16:44शुभ
रोग 16:44 – 18:08अशुभ
*चोघडिया, रात*
काल 18:08 – 19:44अशुभ
लाभ 19:44 – 21:20शुभ
उद्वेग 21:20 – 22:57अशुभ
शुभ 22:57 – 24:33*शुभ
अमृत 24:33* – 26:10*शुभ
चाल 26:10* – 27:46*शुभ
रोग 27:46* – 29:22*अशुभ
काल 29:22* – 30:59*अशुभ
*होरा, दिन*
मंगल 06:59 – 07:55
सूर्य 07:55 – 08:51
शुक्र 08:51 – 09:47
बुध 09:47 – 10:42
चन्द्र 10:42 – 11:38
शनि 11:38 – 12:34
बृहस्पति 12:34 – 13:29
मंगल 13:29 – 14:25
सूर्य 14:25 – 15:21
शुक्र 15:21 – 16:16
बुध 16:16 – 17:12
चन्द्र 17:12 – 18:08
*होरा, रात*
शनि 18:08 – 19:12
बृहस्पति 19:12 – 20:16
मंगल 20:16 – 21:20
सूर्य 21:20 – 22:25
शुक्र 22:25 – 23:29
बुध 23:29 – 24:33
चन्द्र 24:33* – 25:37
शनि 25:37* – 26:42
बृहस्पति 26:42* – 27:46
मंगल 27:46* – 28:50
सूर्य 28:50* – 29:54
शुक्र 29:54* – 30:59
*नोट*– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है।
प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥
रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार ।
अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥
अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें ।
उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें ।
लाभ में व्यापार करें ।
रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें ।
काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है ।
अमृत में सभी शुभ कार्य करें ।
*💫💫दिशा शूल ज्ञान——-उत्तर*
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा गुड़ खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll
*💫अग्नि वास ज्ञान  -:*
 15 + 13 + 3 + 1= 32 ÷ 4 = 0 शेष
पृथ्वी पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l
*💫 शिव वास एवं फल -:*
 28 + 28 + 5 = 61 ÷ 7 = 5 शेष
ज्ञानवेलायां = कष्ट कारक
*💫भद्रावास एवं फल -:*
रात्रि 22:24   से   प्रारम्भ
पाताल लोक = धनलाभ कारक
*💫 विशेष जानकारी*
*प्रदोष व्रत (शिव पूजन)
* शिव रात्रि व्रत (किन्चितमतं)
*💫शुभ विचार*
*अध्वा जरा मनुष्याणां वाजिनां बंधनं जरा ।*
*अमैथुनं जरा स्त्रीणां वस्त्राणामातपं जरा ।।*
।।चा o नी o।।
सतत भ्रमण करना व्यक्ति को बूढ़ा बना देता है. यदि घोड़े को हरदम बांध कर रखते है तो वह बूढा हो जाता है. यदि स्त्री उसके पति के साथ प्रणय नहीं करती हो तो बुढी हो जाती है. धुप में रखने से कपडे पुराने हो जाते ह।
*💫सुभाषितानि*
गीता -: क्षेत्रक्षेत्रज्ञविभाग योगअo-13
*अनादित्वान्निर्गुणत्वात्परमात्मायमव्ययः ।,*
*शरीरस्थोऽपि कौन्तेय न करोति न लिप्यते ॥,*
हे अर्जुन! अनादि होने से और निर्गुण होने से यह अविनाशी परमात्मा शरीर में स्थित होने पर भी वास्तव में न तो कुछ करता है और न लिप्त ही होता है॥,31॥,
*दैनिक राशिफल१३-०२-२०१८*
*मेष*
राजकीय बाधा दूर होगी। पूजा-पाठ में मन लगेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। धनार्जन होगा। प्रसन्नता रहेगी।
*वृष*
दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। जल्दबाजी से हानि होगी। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। चोट व दुर्घटना से बचें।
*मिथुन*
जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। कोर्ट व कचहरी में अनुकूलता रहेगी। झंझटों में न पड़ें। धनार्जन होगा।
*कर्क*
संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। साक्षात्कार व परीक्षा आदि में सफलता मिलेगी। धनार्जन होगा।
*सिंह*
स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। व्यस्तता रहेगी। धनलाभ होगा।
🙍*कन्या*
बुरी सूचना मिल सकती है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। वाणी पर नियंत्रण रखें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें।
*तुला*
मेहनत का फल मिलेगा। कार्य की प्रशंसा होगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। चोट व रोग से बचें। लाभ होगा।
*वृश्चिक*
भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। उत्साहजनक सूचना प्राप्त होगी। बेचैनी रहेगी। जोखिम न लें।
*धनु*
अप्रत्याशित लाभ हो सकता है, जोखिम न लें। रोजगार मिलेगा। यात्रा सफल रहेगी। प्रसन्नता बनी रहेगी।
*मकर*
अपेक्षाकृत कार्यों में विलंब होगा। फालतू खर्च होगा। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। कुसंगति से बचें। कष्ट संभव है।
*कुंभ*
प्रतिद्वंद्वी शांत रहेंगे। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। रुका हुआ धन मिल सकता है। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी।
*मीन*
यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल लाभ देंगे। योजना फलीभूत होगी। विवाद से बचें। बाहरी सहयोग मिलेगा।
*🙏आपका दिनखुशियों भरा  हो🙏*
*🙏🌞💫सुप्रभातम्💫🌞🙏*
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top