देश

मोहन भागवत के बयान पर भड़के राहुल गांधी, संघ ने दी सफाई

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत के भारतीय सेना को लेकर दिए गए बयान पर बवाल खड़ा हो गया है. भागवत के बयान पर भड़के कांग्रेस चीफ राहुल गांधी ने कहा है कि यह हर भारतीय का अपमान है.

उधर, आलोचनाओं से घिरने के बाद संघ ने भागवत के बयान पर सफाई दी है. संघ का कहना है कि भागवत के बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है.

भागवत के बयान को राहुल गांधी ने बताया हर भारतीय का अपमान

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान को हर भारतीय का अपमान बताया है. राहुल ने ट्वीट में कहा कि यह उन लोगों का अपमान है जिन्‍होंने हमारे देश के लिए अपनी जान न्‍योछावर कर दी. उन्‍होंने यह भी कहा कि हमारे शहीदों और सेना का अपमान करने के लिए मोहन भागवत को शर्म आनी चाहिए.

बयान को लेकर सोशल मीडिया पर घिरे भागवत

भारतीय सेना को लेकर दिए गए बयान के बाद सोशल मीडिया पर भागवत की कड़ी आलोचना हो रही है. राजनीतिक संगठनों से लेकर आम लोगों ने भी इस बयान की निंदा की है.

आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने भी भागवत के बयान की निंदा की है. सिंह ने ट्विटर पर लिखा है, ‘अगर ये बयान किसी दूसरी पार्टी के नेता ने दिया होता तो भाजपाई अब तक उसे पाकिस्तान भेज देते. मीडिया तो फांसी की सजा की मांग कर देता, लेकिन बात भागवत की है…’

अगर ये बयान किसी दूसरी पार्टी के नेता ने दिया होता तो,भाजपाई अब तक उसे पाकिस्तान भेज देते,मीडिया तो फाँसी की सज़ा की माँग कर देता, लेकिन बात भागवत की है “हम आह भी भरते हैं तो हो जाते हैं बदनाम,वो क़त्ल भी करते है तो चर्चा नही होता”

संघ प्रमुख अब हमारी सेना पर आक्षेप करते है।सेना को कमज़ोर बताने वाले मोहन भागवत से राष्ट्रभक्ति किसको सिखनी हैं !!! भक्त जवाब ज़रूर देना नहीं तो साहब तनख़्वाह काट लेंगे ।। सेना का अपमान करने वाले भागवत पर मुक़दमा दर्ज होना चाहिए ।।

स्वयं अपनी सुरक्षा के लिए तो मोहन भागवत स्वयंसेवकों पर निर्भर नहीं हैं। उसके लिए तो सरकारी ज़ेड प्लस सुरक्षा ले रखी है। चलें हैं सेना का अपमान करने?

संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान को लेकर हो रहे हो-हल्ले के बीच संघ ने सफाई दी है. संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने कहा है, ‘मोहन भागवत जी के वक्तव्य को गलत तरीके से प्रस्तुत किया जा रहा है.’

सेना, समाज और स्वयंसेवक के सन्दर्भ में मोहनजी ने जो कहा, वह यहाँ है
भागवत बोलेः सेना को तैयार होने में लग सकता है वक्त, लेकिन RSS को नहीं

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने मुजफ्फरनगर में एक कार्यक्रम में कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो देश के लिये लड़ने की खातिर आरएसएस के पास तीन दिन के भीतर ‘सेना’ तैयार करने की क्षमता है. अपने बयान में भागवत ने सेना की काबिलियत पर ही सवाल उठा दिया.

मोहन भागवत, आरएसएस प्रमुखसेना को जवानों को तैयार करने में छह-सात महीने लग जाएंगे, लेकिन संघ के स्वयं सेवकों को लेकर यह तीन दिन में तैयार हो जाएगी. यह हमारी क्षमता है पर हम सैन्य संगठन नहीं, पारिवारिक संगठन हैं लेकिन संघ में मिलिट्री जैसा अनुशासन है. अगर कभी देश को जरूरत हो और संविधान इजाजत दे तो स्वयं सेवक मोर्चा संभाल लेंगे.
भागवत ने कहा कि आरएसएस के स्वयं सेवक मातृभूमि की रक्षा के लिए हंसते-हंसते बलिदान देने को तैयार रहते हैं. भागवत ने कहा कि देश की विपदा में स्वयंसेवक हर वक्त मौजूद रहते हैं. उन्होंने भारत-चीन के युद्ध की चर्चा करते हुए कहा कि जब चीन ने हमला किया था तो उस समय संघ के स्वयंसेवक सीमा पर मिलिट्री फोर्स के आने तक डटे रहे. भागवत ने कहा कि स्वयं सेवकों ने तय किया कि अगर चीनी सेना आयी तो बिना प्रतिकार के उन्हें अंदर प्रवेश करने नहीं देंगे. स्वयंसेवकों को जब जो जिम्मेदारी मिलती है, उसे बखूबी निभाते हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top