व्यापार

जीएसटी : की दरें घटीं, क्या-क्या हुआ सस्ता? इंफोग्राफ में देखिए

गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) काउंसिल ने गुरुवार को पुरानी गाड़ियों, कन्फेक्शनरी और बायोडीजल सहित 29 वस्तुओं पर टैक्स की दर घटाने का फैसला किया. साथ ही काउंसिल ने जीएसटी रिटर्न फाइल करने की प्रक्रिया को आसान करने पर विचार विमर्श किया. इसके अलावा कुछ जॉब वर्क्स, दर्जी की सेवाएं और थीम पार्क में एंट्री सहित 54 कैटेगरी की सर्विस पर जीएसटी की दर घटाई गई है. इंफोग्राफ में देखिए जीएसटी के रेट घटने से कितनी मिली राहत.

पेट्रोल डीजल को दायरे में लाने के लिए भी होगी बैठक : वित्त मंत्री अरुण जेटली की अगुवाई वाली जीएसटी काउंसिल की ये 25वीं बैठक थी, जिसमें 29 प्रोडक्ट और 54 कैटेगररी की सर्विस पर टैक्स की दरें घटाने का फैसले किया गया. जीएसटी काउंसिल में सभी राज्यों के प्रतिनिधि शामिल रहे. बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में जेटली ने कहा कि काउंसिल की अगली बैठक में कच्चे तेल, प्राकृतिक गैस, पेट्रोल, डीजल, विमान ईंधन एटीएफ और रीयल एस्टेट को जीएसटी के दायरे में लाने पर विचार किया जा सकता है.

जीएसटी परिषद ने सेकेंड हैंड या पुरानी मध्यम और बड़ी कारों और एसयूवी पर जीएसटी की दर को 28 से घटाकर 18 प्रतिशत किया है. वहीं अन्य पुराने और सेकेंड हैंड वाहनों पर टैक्स की दर को घटाकर 12% करने का फैसला किया गया.

हीरों और कीमती रत्न पर टैक्स की दर को मौजूदा 3% से घटाकर 0.25% किया गया है. वहीं जैव डीजल या बायोडीजल पर टैक्स की दर 18 से घटाकर 12 प्रतिशत की गई है. जैव ईंधन पर चलने वाली सार्वजनिक परिवहन बसों के लिए इसे 28 से घटाकर 18 प्रतिशत किया गया.

सिंचाई के उपकरणों, शुगर बायल्ड कनफेक्शनरी, 20 लीटर की पानी की बोतल, उर्वरक ग्रेड फॉस्फोरिक एसिड, मेहंदी का कोन में आने वाला पेस्ट, प्राइवेट डिस्ट्रीब्यूटर्स को आपूर्ति की जाने वाली एलपीजी, स्ट्रा का सामान, वेल्वेट फ्रैब्रिक और धान की भूसी पर भी कर की दरें घटाई गई है.

नई दरें 25 जनवरी से लागू होंगी. बताया जा रहा है 29 वस्तुओं और सेवाओं पर टैक्स में कटौती से करीब एक हजार करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान होगा.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top