देश

न किसी के अभाव में न प्रभाव में बल्कि प्रभु के प्रकाश में जिएं’ ब्रम्हर्षि गुरुदेव के अवतरण दिवस को सेवा दिवस के रुप में मनाया

तिरुपति। श्री ब्रम्हर्षि गुरुवानंद जी स्वामी ने कहा कि व्यक्ति को न किसी के अभाव में जीना चाहिए, न प्रभाव में मनुष्य प्रभु के प्रकाश में व अपने स्वभाव में जिए। उन्होंने कहा कि शरीर पवित्र नहीं हमारे विचार पवित्र होते हैं। ब्रम्हर्षि बोले गुरु हमें पंथ नहीं पथ देता है, पंख देता है और आध्यात्म में खुले आकाश में उडऩे की कला देता है। वे यहां श्री सिद्धेश्वर पीठ-श्री ब्रम्हर्षि आश्रम में अपने अवतरण दिवस पर शुक्रवार को मानव सेवा के अनेक कार्यों की शुरुआत करने के बाद सभी उपस्थित श्रद्धालूओं को सम्बोधित कर रहे थे। गुरुवानंदजी स्वामी ने कहा कि ‘मैं तुमने बांधने नहीं आया हूं, हर बंधन से मुक्त करने आया हूं।

‘ उन्होंने कहा कि धर्म बांधता नहीं, हर बंधनों से मुक्त करता है। जीवन को जीवन के साथ जीने व अपने चरित्र को सुंदर बनाने की सीख देते हुए गुरुदेव ने कहा कि किसी भी चित्र की पूजा उसके महान चरित्र की वजह से होती है। इस अवसर पर उन्होंने यहां आश्रम के आचार्य श्री पंडित श्रीनिवास श्रीमाली के सानिध्य में पहली बार 21 गुरुभक्तों की मौन साधना ‘सिद्धेश्वर-द पॉवर ऑफ सोल’ की अनुमोदना करते हुए सभी को आशीर्वाद प्रदान किया। कार्यक्रम का संचालन सुभाष तातेड़ व मीनाक्षी सिक्का ने किया।
अन्नदान, वस्त्रदान, चिकित्सा शिविर सहित अनेक आयोजन

 

आश्रम के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी बिन्नू तंवर ने बताया कि विश्व सेवा दिवस के अवसर पर आश्रम से ग्रामीण क्षेत्रों में नि:शुल्क चिकित्सा सेवा के लिए एक एम्बूलेंस व शुद्ध पेयजल का टैंकर श्रीब्रम्हर्षि ने रवाना किया।

साथ ही दिल्ली के वैद्य डॉ. अशोक मिश्रा ने 650 से अधिक रोगियों की नाड़ी जांच कर नि:शुल्क परामर्श व आयुर्वेद दवाओं का वितरण किया। तंवर ने बताया कि करीब तीन हजार से अधिक लोगों के लिए अन्नदान कराया गया व एक हजार महिलाओं को साडिय़ों का वितरण किया गया। युवाओं व महिलाओं ने 25 यूनिट रक्तदान किया। जरुरतमंद दिव्यांगों को ट्राईसाइकिलें व श्रवण यंत्र भी वितरित किए गए।

 

 

शाम को मुम्बई के भजन गायक कलाकार राजेश मिश्रा ने अनेक भक्तिमयी प्रस्तुतियों से देर रात्रि तक समां बांधा। इस मौके पर आश्रम के पदाधिकारियों में अशोक गोयल, सुधीर गोयल, सुनील आहूजा, घनश्याम मोदी, प्रमोद पालीवाल, प्रकाश सेठिया, पारस भंडारी, गुरुग्राम के विधायक उमेश अग्रवाल, ओ.पी. शर्मा, हायमा रेड्डी, बंशीलाल तितलिया, सुभाष कौशिक सहित देश-विदेश से बड़ी संख्या में गुरुभक्तों ने मानव सेवा एवं ब्रम्हर्षि के अवतरण दिवस के इस कार्यक्रम में शिरकत की।
गुरुदेव हमारे लिए परमात्मा ही है, जब से वे हमारी जिंदगी में आए हैं किसी चीज की कमी नहीं रही है। विश्वास करिए हमें बगैर मांगे खूब दिया है। उनके बारे में चंद पंक्तियों में कुछ बयान नहीं कर सकते। हमारी हमेशा यही अभिलाषा रहती है कि वे जब भी, जहां भी अपने दिव्य दर्शन दें वहां पहुंच जाएं। -अंजली सुनील आहूजा-गुरुभक्त


जॉइंट पेन व शूगर के खूब रोगियों को आज जांचकर परामर्श दिया। व्यक्ति का अनियमित खान-पान जैसे फैक्ट्रीमेड फूड आदि से व्यक्ति अनेक बीमारियां अपने शरीर में ढो रहा है। हमें अधिकाधिक जूस पीना चाहिए व फल, कच्ची सब्जियां खानी चाहिए। सप्ताह में एक दिन फलाहार पर ही रहना चाहिए। मेरा लक्ष्य है आरोग्य सेवा मिशन [एएसएम] के माध्यम से लोगों को जागरुक करते हुए अपनी विशिष्ट सेवाएं दीं। -वैद्य अशोक मिश्रा/चेयरमैन एएसएम


बेंगलूरू से तीन बसों से 170 गुरुभक्तों का काफिला तिरुपति स्थित आश्रम में श्रीब्रम्हर्षि के अवतरण दिवस पर हम लाए हैं। तेजाराम भाटी, मुकेश सोलंकी, अरुण भंडारी, महेंद्र सोलंकी, हीरालाल गहलोत का इसमें सहयोग रहा। गुरुभक्तों की यहां कि यह दूसरी यात्रा थी। अगले माह शिवरात्रि पर 21 बसें बेंगलूरू से यहां गुरुभक्तों की लाएंगे। जो भी श्रद्धाभाव से आया है, यहां से खाली नहीं जाएगा।
हापुराम माली/ गुरुभक्त

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top