घटना

फरीदाबाद के अस्पताल में महिला की मौत, परिजनों को थमाया 18 लाख का बिल

फरीदाबाद। अस्पतालों में इलाज के नाम पर मोटी रकम वसूलने का खेल थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा मामला हरियाणा के फरीदाबाद का है। यहां के एशियन अस्पताल में 22 दिनों तक भर्ती रही प्रेग्नेंट महिला की मौत के बाद परिजनों को 18 लाख रुपये का बिल थमा दिया। इतने दिनों तक चले इलाज के बाद भी महिला और गर्भ में पल रहे शिशु की मौत हो गई। ऐसे में 18 लाख का बिल थमाने के बाद परिजन अस्पताल के खिलाफ जांच की मांग कर रहे है।
जानकारी के मुताबिक फरीदाबाद के गांव नचौली रहने वाले सीताराम ने अपनी 20 वर्षीय बेटी श्वेता को बुखार आने पर 13 दिसंबर को एशियन हॉस्पिटल में भर्ती कराया था।

मृतका के चाचा ने बताया कि श्वेता को बुखार था, लेकिन उसे आईसीयू में भर्ती कर दिया गया। डॉक्टरों ने पहले तो टाइफाइड बताया और उसे आईसीयू में भर्ती कर दिया। फिर कहा कि आंतों में इंफेक्शन है। श्वेता के चाचा ने बताया कि डॉक्टरों ने उन्हें ऑपरेशन के लिए तीन लाख रुपये जमा करने के लिए कहा। पीडि़त परिवार ने बताया कि तब तक वे इलाज के नाम पर 10-12 लाख रुपये जमा करा चुके थे। अस्पताल ने उन्हें 18 लाख रुपये का बिल थमाया है। वहीं, पूरे मामले पर अस्पताल प्रशासन ने सफाई देते हुए कहा कि डॉक्टरों ने मरीज को बचाने की पूरी कोशिश की थी, लेकिन इंफेक्शन फैलने के कारण उसे बचाया नहीं जा सका।

अस्पताल के प्रबंधक डॉ. रमेश चंद्रा ने बताया कि मरीज 32 हफ्ते की गर्भवती थी और 8-10 दिन से बुखार से पीडि़त थी। उसके बच्चे की मौत हो चुकी थी, जिसके कारण आंतों में इंफेक्शन हो गया था। इसके लिए ऑपरेशन भी किया गया, लेकिन मरीज को बचाया नहीं जा सका। हालांकि, यह कोई नया मामला नहीं है। इससे पहले भी बीते दिसंबर में फरीदाबाद के अजरौंदा चौक स्थित क्यूआरजी सेंट्रल अस्पताल में भी ऐसा ही एक मामला प्रकाश में आया था, जिसमें डेंगू की शिकायत को लेकर करीब 20 दिन पहले दाखिल हुई 50 वर्षीय महिला की मौत हो गई और अस्पताल प्रशासन ने उसके परिजनों को करीब 17 लाख रुपए का बिल थमा दिया था।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top