धर्म-ज्योतिष

इस मंदिर में पति-पत्नी एक साथ नहीं कर सकते मां के दर्शन, जिसने किया उसे भुगतना पड़ता है दंड

एक ऐसा मंदर है जहां पति-पत्नी एक साथ मां की पूजा या माता की प्रतिमा के दर्शन नहीं करते। यदि कोई दंपति मां की प्रतिमा के दर्शन कर ले तो उसे दंड भुगतना पड़ता है। हिमाचल का यह मंदिर श्राई कोटि माता के नाम से विख्यात है। दंपति मां का पूजन और दर्शन अलग-अलग करते हैं।

परंपरा का कारण

किंवदन्ती के अनुसार भोलेनाथ ने अपने दोनों पुत्रों श्री गणेश और कार्तिकेय को पूर्ण ब्रह्मांड की परिक्रमा करने को कहा था। कार्तिकेय तो अपने वाहन मयूर पर ब्रह्मांड का चक्कर लगाने हेतु चले गए परंतु गणेश जी ने अपने पिता शिव और माता पार्वती की परिक्रमा की अौर कहा कि उनके चरणों में ही पूरा ब्रह्मांड है। कार्तिकेय के वापिस आने तक गणेश जी का विवाह हो गया था। जिसके कारण वे रुष्ट हो गए थे और उन्होंने प्रण लिया की वह विवाह नहीं करेंगे। श्राईकोटी में दरवाजे पर आज भी गणेश जी सपत्नीक स्थापित हैं। कार्तिकेय जी के प्रण से माता पार्वती गुस्सा हो गई थी और उन्होंने कहा था कि जो दंपति इक्ट्ठे उनके दर्शन करेगें वह अलग हो जाएंगे। इसी कारण यहां पति-पत्नि इक्ट्ठे पूजा नहीं करते।

खुद की शादी में रोता मिला इंजीनियर दूल्हा,आपबीती में बताई पूरी सच्चाई

सदियों से यह मंदिर लोगों की आस्था का केंद्र रहा है। इसकी देख-रेख माता भीमाकाली ट्रस्ट करता है। मंदिर का रास्ता घने वनों से होकर जाता है, जहां देवदार के पेड़ इसे अौर अधिक आनंदमय बनाते हैं। शिमला से वाहन अौर बसों के द्वारा नारकंडा और उसके बाद मश्नु गावं से होते हुए मंदिर तक पहुंचते हैं। इस मंदिर की समुद्र तल से ऊंचाई 11000 फीट है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top