वायरल

आतंकी ने कहा- अगर मैं दिल्ली में हमला कर देता तो कैटरीना कैफ मुझसे मिलने आती

उनके नाम मुदासिर अहमद वागय व मोहम्मद अशरफ है। दोनों जम्मू-कश्मीर के रहने वाले हैं। तीनों एक जनवरी को दिल्ली आए और पुरानी दिल्ली स्थित होटल अल राशिद में ठहरे थे।

रविवार देर रात उत्तर प्रदेश एटीएस (आतंकवाद विरोधी दस्ता) की टीम ने जब होटल में छापेमारी की तो पता चला कि तीनों 6 जनवरी की रात 8.30 बजे होटल छोड़कर जा चुके हैं। तीनों ने अपने पहचान पत्र जमा कराए थे।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को पता चला कि मुदासिर व अशरफ जम्मू-कश्मीर स्थित अपने घर पहुंच गए हैं। आइबी (इंटेलीजेंस ब्यूरो) की सूचना पर जम्मू-कश्मीर पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है। अबतक तीनों के किसी आतंकी संगठन से जुड़े होने का कोई साक्ष्य नहीं मिला है। बिलाल ने उप्र एटीएस को बताया था कि वे लोग अक्षरधाम मंदिर पर आतंकी हमला व गणतंत्र दिवस समारोह पर दिल्ली को दहलाने की साजिश रच रहे थे।

उसे सपना आया था कि ‘टाइगर जिंदा है’ फिल्म की तरह उसने अक्षरधाम मंदिर परिसर में बम धमाके किए तो वहां उसे अभिनेत्री कैटरीना कैफ मिल जाएंगी और वह उनका हाथ पकड़ लेगा।

स्पेशल सेल का कहना है कि उसके हाव-भाव व जवाब देने के तरीके से लग रहा है कि उसकी दिमागी हालत ठीक नहीं है। उसने ‘टाइगर जिंदा है’ फिल्म देखी है। अभिनेता सलमान खान का वह फैन है।
बता दें कि उत्तर प्रदेश मथुरा रेलवे स्टेशन पर शातिर को शक होने पर ही पकड़ा गया था। रेलवे स्टेशन पर बीते रविवार को टीटीई ने बिना टिकट भोपाल जाने वाली शताब्दी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे एक शख्स को जीआरपी के हवाले किया था। वह जांच पुलिस को कुछ संदिग्ध लगा।

जब एटीएस ने पूछताछ की तो उसकी पहचान जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग का रहने वाले 30 वर्ष के बिलाल अहमद वानी के रूप में हुई। पहले तो इसने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश करते हुए गूंगा-बहरा होने का नाटक किया।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top