क्राइम

एक और बाबा का SEX विडियो वायरल, धार्मिक संस्था का प्रमुख करता था महिलाओं का रेप!

दो दिन पहले इस बाबा का एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें वह एक स्कूल टीचर के साथ अश्लील हरकतें करता दिख रहा है। बताया जा रहा है कि यह वीडियो चरणजीत सिंह को ब्लैकमेल करने के लिए बनाया गया था और पैसा नहीं मिलने पर उसे वायरल कर दिया गया।

चीफ खालसा दीवान संस्था सामाजिक, धार्मिक कार्यों के साथ-साथ कई स्कूलों और चेरिटेबल अस्पतालों का संचालन भी करती है। जिनका नेटवर्क पूरे पंजाब में फैला हुआ है। आरोप है कि चीफ खालसा दीवान का मुखिया सरदार चरणजीत सिंह चड्ढा संस्था के स्कूलों की टीचर्स का प्रमोशन करने की एवज में उनका यौन शोषण करता था।

 

जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें वह एक महिला के साथ अश्लील हरकतें करता दिख रहा है। वह महिला एक टीचर बताई जा रही है। वीडियो में दिख रहा है कि वह उस महिला के साथ सेल्फी भी ले रहा है। महिला भी अपने फोन से बाबा के साथ सेल्फी लेती दिख रही है।

पुलिसिया जांच में पता चला है कि मनमर्जी के मुताबिक प्रमोशन हासिल करने के लिए अध्यापिकाओं को मजबूरी में उसके संग यह सब करना पड़ता था। चीफ खालसा दीवान संस्था के सदस्य निर्मल सिंह ठेकेदार के मुताबिक संस्था का एक उच्च अधिकारी प्रोमोशन की चाहत रखने वाली शिक्षिकाओं को रणजीत सिंह चड्ढा से मिलवाता था। प्रमोशन के बदले टीचर को अपना जिस्म रणजीत सिंह चड्ढा के हवाले करना होता था।

 

सरदार रणजीत सिंह चड्ढा के शोषण का शिकार बनी एक अध्यापिका ने बाकायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस करके उस पर शारीरिक शोषण के आरोप लगाए हैं। आरोपी चड्ढा ने इस महिला को अपने एक स्कूल की प्रिंसिपल के तौर पर प्रमोट किया था। पुलिस ने पीड़िता की शिकायत के आधार पर रणजीत सिंह चड्ढा के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। केस दर्ज होने के बाद से ही चड्ढा फरार है।

आरोपी रणजीत सिंह चड्ढा पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल का करीबी बताया जा रहा है। अकाली दल के कई बड़े नेताओं से उसके व्यक्तिगत संबंध हैं। उसकी राजनीतिक पहुंच के चलते ही पुलिस अभी तक उसके खिलाफ कार्रवाई करने से डर रही है। हालांकि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उसकी गिरफ्तारी के आदेश दिए हैं।

वीडियो वायरल होने के बाद अकाल तख्त ने रणजीत सिंह चड्डा के खिलाफ के जांच बैठा दी। उधर, रणजीत सिंह चड्ढा के खिलाफ के शारीरिक शोषण का मामला दर्ज होने के बाद उसे चीफ खालसा दीवान के मुखिया के पद से बर्खास्त कर दिया गया। सिखों की धार्मिक संस्था अकाल तख्त ने चड्ढा को तलब भी किया है। लेकिन मुकदमा दर्ज होने के बाद से ही वह फरार है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top