विदेश

चीन ने दिया पाकिस्तान को झटका, भ्रष्टाचार के आरोप में रोकी cpec की फंडिंग

पूरी दुनिया के सामने पाकिस्तान में लगातार बढ़ रहे भ्रष्टाचार का असर अब लगातार बढता जा रहा है। इसकी एक झलक हाल ही में देखने को मिली, जब चीन ने 50 अरब डॉलर वाली सीपीईसी (चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा) प्रोजेक्ट के फंडिग पर रोक लगा दी। चीन ने इस बड़े कदम उठाते हुए अस्थायी रूप से कम से कम तीन बड़े रोड प्रोजेक्ट के लिए फंड रोक दिया है। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो, चीन के इस फैसले से उसके खास ‘दोस्त’ पाकिस्तान सदमें में है। आपको बता दें कि सीपीईसी चीन की प्रमुख ओबीओआर (वन बेल्ट वन रो़ड) परियोजना का ही हिस्सा है।
डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, इससे पाकिस्तान नेशनल हाइवे अथॉरिटी की अरबों डॉलर की परियोजनाओं को तगड़ा झटका लगा है। इसके चलते कम से कम तीन परियोजनाओं में देरी की आशंका जताई जा रही है।
एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, चीन की ओर से एक नई गाइडलाइंस जारी होगी, जिसके बाद ही फंड जारी किया जा सकेगा। ओबीओआर परियोजना पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) से होकर भी गुजरेगी। इस परियोजना के तहत चीन का शिनजियांग इलाका पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत से जुड़ेगा।

इन परियोजनाओं के लिए फंड रोके जाने का असर 210 किलोमीटर लंबी डेरा इस्माइल खान-झोब रोड पर पड़ेगा।

इसमें लगभग 81 अरब रुपये की लागत का अनुमान लगाया जाता रहा है। इस प्रोजेक्ट के तहत 66 अरब रुपये सड़क निर्माण और 15 अरब रुपये भूमि अधिग्रहण पर खर्च होगा।
इसके अलावा 19.76 अरब रुपये की 110 किलोमीटर लंबी खुजदार-बसिमा रोड परियोजना पर भी इसका असर पड़ेगा। वहीं तीसरी परियोजना रायकोट से थाकोट के बीच काराकोरम हाइवे है। 136 किलोमीटर लंबी इस सड़क के निर्माण पर करीब 8.5 अरब रुपये खर्च होने का अनुमान है।
मूल रूप से ये तीनो प्रोजेक्ट पाकिस्तानी सरकार का हिस्सा थे।

लेकिन, दिसंबर 2016 में एनएचए प्रवक्ता ने इन प्रोजेक्ट को सीपीईसी के तहत शामिल करने की घोषणा की थी जिससे इन्हें वित्तीय मदद मिल सके।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top