बीकानेर

बीकानेर में स्वर्णकार समाज के सामूहिक विवाह में लिया 21 जोड़ों का लक्ष्य, घर-घर जाकर दे रहे निमंत्रण

बीकानेर, (छोटीकाशी डॉट कॉम रिपोर्टर)। श्री मैढ़ क्षत्रिय युवा स्वर्णकार समाजसेवी संस्था के बैनर तले स्वर्णकार समाज के इसी माह की 23 तारीख को होने वाले सामूहिक विवाह की व्यवस्थाओं को लेकर रानीबाजार स्थित श्री मैढ़ क्षत्रिय स्वर्णकार भवन में अध्यक्ष हनुमानप्रसाद कड़ेल की अध्यक्षता में मीटिंग आयोजित की गयी। समाज के विधि सलाहकार एडवोकेट विजय प्रकाश गोयतान ने बताया कि आयोजन को लेकर विभिन्न समितियों का गठन कर कार्यकर्ताओं को दिशा-निर्देश दिए गए। उन्होंने बताया कि बड़ी संख्या में संस्था के कार्यकर्ता देहात क्षेत्र में स्वर्णकार समाज के सामूहिक विवाह को लेकर प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। हनुमान प्रसाद कड़ेल, ओमप्रकाश बूटण, श्याम सुंदर धूपड़, सीताराम डांवर, सुंदरलाल माण्डण, विजय प्रकाश गोयतान, विजय कुमार डांवर ने रविवार को पत्रकार सम्मेलन में बताया कि सामूहिक विवाह का पंजीयन नि:शुल्क है। विवाह पंजीयन की अंतिम तारीख 20 नवम्बर तय की गयी है। उन्होंने बताया कि घर-घर जाकर विवाह हेतू जोड़ों के पंजीयन हेतू सम्पर्क किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सामूहिक विवाह का उद्देश्य सामाजिक सुधार-अपने बच्चों को सामूहिक विवाह करने हेतू पे्ररित करना, दहेज प्रथा को बंद करने के प्रयास, समाज के बच्चों को शिक्षा के प्रति जागृत कर समाज का विकास करना, सामूहिक विवाह हेतू समाज को प्रोत्साहित करना, सामूहिक विवाह में शादी करने वाले जोड़े को बीकानेर में भविष्य में होने वाले विवाह में उनको बुलाकर दो साड़ी, एक शॉल, 1100 रुपए का चैक दिया जाएगा। जो जोड़े बीकानेर आएंगे। सामूहिक विवाह में समाज के भामाशाहों और समस्त समाज बंधुओं का पूर्णत: तन, मन, धन से सहयोग कर सामूहिक विवाह को सफल बनाने के प्रयास करना प्रमुख है। उन्होंने बताया कि अब तक संस्था के विधि सलाहकार एडवोकेट विजय प्रकाश गोयतान ने बताया कि टीम में हनुमान कड़ेल, श्याम सुंदर धूपड़, विजयप्रकाश, घेवरचंद डांवर, बालचंद कड़ेल, राजू जोड़ा, विजय डांवर, जगदीश कूकरा, दिनेश मौसूण, सम्पतलाल लावट, ओमप्रकाश बूटण, मेघराज मौसूण, गणेश सहदेवड़ा, राधेश्याम कड़ेल, सुंदरलाल मांडण, नथमल मांडण, बजरंगलाल धूपड़, जगदीश अग्रोया, लक्ष्मण धूपड़, रिद्धकरण ढल्ला, लीलाधर बूटण, उमाशंकर बूटण, सुंदरलाल भामा एवं समाज के अन्य लोगों ने विभिन्न स्थानों पर सामूहिक विवाह का जोर-शोर से प्रचार-प्रसार किया।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top