जयपुर

दीपावली पर घर-घर हुई लक्ष्मी-कुबेर की पूजा

जयपुर। धन की देवी माता लक्ष्मी की आराधना का पर्व दीपावली हर्षोल्लास से मनाया गया। शाम के समय लोगों ने नए वस्त्र धारण कर घरों, प्रतिष्ठानों पर विधि-विधान से धन की देवी माता लक्ष्मी की पूजा की। इस दौरान पूरा शहर दीपों से जगमग नजर आया। युवतियों ने दीपावली के मौके पर माता लक्ष्मी के स्वागत के लिए घर के दरवाजे पर रंगोलियां सजाईं। गृहणियों ने पारम्परिक पकवान गुजिया, पपडिय़ा, रसगुल्ले, मिठाई आदि बनाए। दीपोत्सव पर लोगों ने घरों पर आकर्षक सजावट भी करवाई। मिठाई की दुकानों पर लगी रही भीड़ बाजार में दिनभर लोगों की भीड़ लगी रही। मिठाई की दुकानों पर तरह-तरह की मिठाइयां सजी हुई थीं। बच्चों से लेकर बुजुर्ग दुकानों पर मिठाइयां खरीदने में व्यस्त रहे। प्रशासन ने भी शहर में मिलावटी मिठाइयों की बिक्री पर पूरी नजर बनाए रखी। इस कारण अधिकतर लोगों ने विभिन्न कंपनियों की पैकबंद मिठाई खरीदना उचित समझा। पूजा के बाद शुरू हुआ शुभकामनाओं का दौर ये भी पढ़ें – अपने राज्य – शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

दीपावली पर घर में लक्ष्मी पूजा के बाद लोगों ने एक-दूसरे के घर जाकर शुभकामनाएं दीं और बुजुर्गों से आशीर्वाद लिया। इसके अलावा दूर-दराज के लोगों ने मोबाइल पर संपर्क कर रिश्तेदारों और परिचितों को शुभकामनाएं दीं। वहीं अधिकतर युवाओं ने फेसबुक, व्हाट्सएप और इंटरनेट के माध्यम से अपने दोस्तों को दीपावली की बधाइयां दीं। व्यापारियों ने किया बही-खाता का पूजन ये भी पढ़ें – सैंकड़ों सालों से सीना ताने खड़ा है सोनार

दीपावली पर व्यापारियों ने बही-खातों, तराजू और नाप-माप के औजारों से पूजा की। व्यापारियों ने नए बही-खाते बनाए और माता लक्ष्मी ने व्यापार में लाभ की मन्नतें मांगीं। पटाखे चलाने में लोगों में रहा उत्साह ये भी पढ़ें – यहां परियों सी खूबसूरती के साथ नजर आती है बहादुरी

दीपावली पर शाम से ही शुरू हुआ पटाखों का शोर देर रात तक जारी रहा। चारों तरफ पटाखे फूटते नजर आ रहे थे। पूरा शहर घरों से निकलकर गलियों में आ गया। सभी ने मिलजुलकर आतिशबाजी की। बच्चों ने भी पटाखों का जमकर आनंद लिया। नन्हे-मुन्हें रोशनी वाले पटाखे, अनार, फुलझड़ी आदि चलाकर उत्साह और उमंग के साथ दीपावली पर्व मनाते देखे गए। गोवर्धन पूजा शुक्रवार को यह भी पढ़े : लकवे के मरीज यहां से जाते है ठीक होके

पांच दिन तक मनाए जाने वाले दीपावली महोत्सव के चौथे दिन शुक्रवार को गोवर्धन पूजा की जाएगी। घरों में महिलाएं गाय के गोबर से गोवर्धन बनाएंगी और शाम को दूध, दीप, धूप, नेवेद्य, फल-फूल, मिठाई आदि से पूजा की जाएगी। कई जगह लोग सामूहिक रूप से भगवान गोवर्धन की पूजा करेंगे। आगे तस्वीरों में देखें… यह भी पढ़े : यहां पेड़ों की रक्षा को 363 लोगों ने दिया था बलिदान

आगे तस्वीरों में देखें… यह भी पढ़े : सही समय पर दिखाने से एडी की बढ़ी हड्डी की सर्जरी से बच सकते है

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top