व्यापार

भारत-यूरोपीय संघ को दीर्घकालिक समग्र विमानन समझौता करने की जरूरत

सिंगापुर। विमानन सुरक्षा और हवाई यातायात प्रबंधन के आधुनिकीकरण पर भारत और यूरोपीय संघ को एक समग्र दीर्घावधि समझौते पर काम करने की जरूरत है ताकि इस क्षेत्र में सहयोग को बढ़ाया जा सके। यूरोपीय आयोग में परिवहन महासचिव हेनरिक होलोलेइ ने पीटीआई-भाषा से कहा कि यह समझौता दोनों के लिए फायदेमंद होना चाहिए। यूरोपीय आयोग 28 देशों के समूह यूरोपीय संघ का एक संस्थान है। उन्होंने यह बात कल यहां यूरोपीय विमानन सुरक्षा एजेंसी (ईएएसए) के कार्यालय का उद्घाटन करते हुए कही।

होलोलेइ ने कहा, यह समग्र समझौता विमानन सुरक्षा, नियामकीय सहयोग, हवाई यातायात प्रबंधन का आधुनिकीकरण और पर्यावरण संबंधी मुद्दों पर वास्तविक साझेदारी करने की रूपरेखा होनी चाहिए। उन्होंने यह बात यहां भारत-यूरोपीय संघ समस्तरीय नागर विमानन समझौते के बारे में विस्तारपूर्वक बताते हुई कही।

पिछले हफ्ते दिल्ली में 14वें भारत-यूरोपीय संघ शिखर सम्मेलन के बाद यह समझौता परिचालन में आ गया है। होलोलेइ ने कहा कि उनके मुताबिक नजदीकी सहयोग के लिए यह एक बहुत अच्छा समझौता है क्योंकि भारत और यूरोपीय संघ के पास इस सहयोग को बढ़ाने की अपार संभावनाएं हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top