विदेश

चीन के प्रदूषण का असर अब पड़ोसी देश पर, मांगा हर्जाना

The impact of China's pollution on neighboring countries, demand compensation

सिओलः प्रदूषण अब पड़ोसी देशों को भी बीमार करने लगा है। हालात यह हो गए हैं कि दक्षिण कोरिया के कुछ लोगों ने चीन पर केस कर दिया है कि उसकी वजह से दक्षिण कोरिया में प्रदूषण बढ़ रहा है और लोगों को तरह-तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

दक्षिण कोरिया की राजधानी सिओल के 88 लोगों ने यह केस किया है और चीन से 2600 डॉलर यानी करीब 1.69 लाख रुपए (प्रति वादी) हर्जाने की मांग भी की है। इनका कहना है कि चीन के प्रदूषण की वजह से सिओल में उन्हें मानसिक तनाव झेलना पड़ रहा है। उन्हें श्वास संबंधी बीमारियों का खतरा पैदा हो गया है।
स्थानीय समाचार एजैंसी योनहाप के मुताबिक, चीन के जंगलों से जहरीली हवा दक्षिण कोरिया में प्रवेश कर रही है। इसके अलावा गोबी डेजर्ट से हर साल उठने वाले तूफान से चीन की राजधानी बीजिंग की हवा प्रदूषित हो जाती है। यही प्रदूषित हवा सिओल तक चली जाती है।

चीन से आ रहे इस प्रदूषण के खिलाफ सियोल में लंबे समय से प्रदर्शन चल रहे हैं और लड़ाई अब कोर्ट तक पहुंच गई है। दक्षिण कोरियाई सरकार पर दबाव बनाने के लिए ‘डस्ट आऊट’ नामक समूह भी बनाया गया है। लोग भले ही चीन को दोषी ठहराए, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि दक्षिण कोरिया में कोयले से चलने वाले प्लांट पर निर्भरता ज्यादा है। साथ ही डीजल के अलावा किसी ओर ईंधन को बढ़ावा भी नहीं दिया जा रहा है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top