जयपुर

बांसवाड़ा में तनाव दौरान पीड़ितों को 31 लाख 65 हजार की सहायता राशि स्वीकृत

31 lakh 65 thousand donations sanctioned to victims during tension in Banswara

जयपुर। ग्रामीण विकास, एवं पंचायती राज, राज्यमंत्री श्री धनसिंह रावत ने कहा है कि राज्य सरकार बांसवाड़ा शहर में हुए तनाव के दौरान समस्त पीड़ितों को मदद देने के लिए प्रतिबद्ध है और इसी दृष्टि से जिला प्रशासन द्वारा की गई सर्वे के तहत विभिन्न प्रकार के 180 प्रभावितों को 31 लाख 65 हजार रुपयों की आर्थिक सहायता स्वीकृत की है।

राज्यमंत्री बुधवार को बांसवाड़ा कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

राज्यमंत्री ने कहा कि पीड़ित परिवारों को साम्प्रदायिक दंगो, सामाजिक एवं आतंकवादी गतिविधियों के दौरान प्रभावित व्यक्तियों एवं परिवार जनों को आर्थिक सहायता सम्बन्धी योजना नियम, 2008 के नियमानुसार य 31 लाख 65 हजार की सहायता स्वीकृत की गई है। इसके तहत शहर के घर/दुकान की संरचना के पूर्ण रूप से नुकसान वाले 55 पीड़ितों को पचास-पचास हजार रुपये, घर/दुकान की संरचना के आंशिक रूप से नुकसान पर 20 पीड़ितों को पांच-पांच हजार, आगजनी अथवा अथवा अन्यथा कृषि सम्पत्ति अथवा दुकान में रखे सामान का नुकसान के 72 पीड़ितों को तीन-तीन हजार रुपये तथा जीविकोपार्जन साधन आदि के नुकसान पर 33 पीड़ितों को तीन-तीन हजार रुपये की आर्थिक सहायता की स्वीकृति दी गई है। इस दौरान उन्होंने बताया कि शहर में कानून एवं शांति व्यवस्था बनाये रखने पुलिस बल के अतिरिक्त 21 भू-अभिलेख निरीक्षक, 34 पटवारी और 16 मजिस्ट्रेट्स की चौबीसों घंटों के लिए ड्यूटी लगाई गई है तथा कलेक्ट्रेट में 24 घण्टे के लिए प्रभावी नियत्रंण कक्ष स्थापित किया गया है।

उन्होंने शहर में कानून एवं शांति कायम करने के लिए की जा रही कार्यवाही के बारे में बताते हुए कहा कि कानून अपना काम कर रहा है और इस प्रकरण में दोषी किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा।

श्री रावत ने बताया कि पीड़ित परिवारों में से अजा-अ.ज.जा. के परिवारों को अजा-अजजा अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत जले हुए मकानों के पुननिर्माण हेतु सार्वजनिक निर्माण विभाग से सर्वे करवाया जा चुका है और इसके तहत शीघ्र ही एक लाख पुनर्वास राशि एवं मकान निर्माण राशि प्रदान की जावेगी।

बांसवाड़ा में तनाव दौरान पीड़ितों को 31 लाख 65 हजार की सहायता राशि स्वीकृत

श्री राज्यमंत्री ने बताया कि पीड़ितों को पीड़ित प्रतिकर नियमों के अंतर्गत सहायता देने के साथ ही सभी पीड़ित परिवारों का टीम गठन कर विस्तृत सर्वेक्षण किया जाकर अल्पसंख्यक परिवारों के पात्र व्यक्तियों को अल्पसंख्यक विभाग की रियायती दर पर ऋण, अध्ययनरत छात्र/छात्राओं के लिए छात्रवृत्ति, उच्च अध्ययन हेतु ऋण प्रदान किये जावेंगे। इसी प्रकार अजा-अजजा के पीड़ित परिवारों के पात्र व्यक्तियों को अनुजा निगम की योजनाओं के तहत रियायती दर पर ऋण, छात्रवृत्ति उच्च शिक्षा ऋण इत्यादी प्रदान किये जावेगें तथा सभी पीड़ित परिवारों के पात्र व्यक्तियों को श्रमिक कार्ड जारी किये जावेंगे। उन्होंने बताया कि पात्र परिवारों को भामाशाह ऋण योजना में रोजगार हेतु ऋण रियायती दर पर उपलब्ध करवाया जाएगा व पेंशन योजनाओं के साथ पीड़ितों को स्वच्छ भारत मिशन, उज्ज्वला योजना, खाद्य सुरक्षा में लाभ प्रदान किया जाएगा। उन्होंने आश्वस्त किया कि पीड़ित परिवार का व्यक्ति रोजगार के लिए कोई भी प्रशिक्षण लेना चाहता है तो उसको निःशुल्क प्रशिक्षण देकर व्यवसाय के लिए ऋण दिलाया जायेगा तथा सभी प्रभावित परिवारों को अपनी जिदंगी फिर से शुरू करने के लिए विशेष सहायता दिलाई जाएगी।

आरंभ में जिला कलक्टर श्री भगवतीप्रसाद ने शहर में शांति व्यवस्था की बहाली के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी दी। इस मौके पर जिला पुलिस अधीक्षक श्री कालूराम रावत ने शहर में नियोजित पुलिस बल तथा अपराधियों के विरूद्ध की जा रही कार्यवाही के बारे में बताया।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top