बीकानेर

‘डायबिटीज रोगियों के लिए अब कोलेस्ट्रोल की दवा जरुरी’ / इटरनल अस्पताल के चिकित्सक डॉ. रुद्रदेव की पे्रस-कॉन्फे्रंस

Eternal Heart Care Centre & Research institute Pvt. Ltd. Consultant-interventional cardiology MD (internal Medicine), DM (Cardiology) Dr Rudra Dev Pandey & Sinior Manager-Domestic Marketing Virendra Pareek Press Conference in Bikaner

Eternal Heart Care Centre & Research institute Pvt. Ltd. Consultant-interventional cardiology MD (internal Medicine), DM (Cardiology) Dr Rudra Dev Pandey & Sinior Manager-Domestic Marketing Virendra Pareek Press Conference in Bikaner

बीकानेर। मोटापा और ब्लड पे्रशर हृदय रोगों के दो बड़े कारण है और बीकानेर संभाग के लोगों का खान-पान में तैलीय तथा नमक दोनों तत्वों की मात्रा अधिक होती है जो कि दोनों रोगों के लिए कारक माने जाते हैं। बढ़ा वजन और ब्लड पे्रशर तथा तम्बाकू सेवन अधिक होने की स्थिति में हृदय रोगों की संभावनाएं अधिक होती हैं।

Report Updated By Journalist Sanjay Joshi (Bikaner)

Report Updated By Journalist Sanjay Joshi (Bikaner)

स्वस्थ एवं नियमित दिनचर्या व प्राकृतिक खानपान की सलाह और नियमित आधा घण्टे की सैर को जरुरी बताते हुए इटरनल हॉस्पिटल जयपुर के सीनियर हार्ट रोग विशेषज्ञ डॉ. रुद्रदेव पाण्डेय ने शनिवार सांय यहां होटल राजविलास में आयोजित पे्रस-कॉन्फे्रंस में बताया कि आज हमारे देश में अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलोजी की गाइडलाइन पर ही उपचार किया जा रहा है। नए निर्देशों में रोगी को कैलकुलेटर सारिणी के आधार पर आकलन कर उपचार करने की सलाह दी गई है न कि उसकी ब्लड कोलेस्ट्रोल के लेवल की रिपोर्ट के आधार पर डॉ. रुद्रदेव के मुताबिक दस सालों में रोगी को हृदयाघात की संभावनाओं के आधार पर उपचारित किया जाना चाहिए। नए कैलकुलेटर पैरामीटर तय किये गये हैं इनमें प्रमुख उम्र, लिंग, जीवन शैली, कोलेस्ट्रोल का स्तर, डायबिटीज, ब्लड पे्रशर का उपचार तथा तम्बाकू सेवन आदि हैं। उल्लेखनीय है कि कोलेस्ट्रोल यानी रक्तवाहिनियों में वसा के जमाव से आ रही रुकावट के उपचार की नइ गाइडलाइन हाल ही में अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलोजी ने जारी की है। इनमें उपचार के तरीकों में आधारभूत बदलाव किया गया है। बीकानेर मूल के डॉ. पाण्डेय ने बताया कि हृदयाघात का सबसे बड़ा कारण माने जाने वाले कोलेस्ट्रोल की दवा अब रोगी को हृदयाघात की संभावना को ध्यान में रखते हुए दिए जाने जैसे दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। साथ ही यह भी निर्देश दिये गये हैं कि डायबिटीज रोगियों को आवश्यक रुप से कोलेस्ट्रोल कम करने की दवा दी जानी चाहिए। ऐसा मानना है कि डायबिटीज रोगियों को हृदयाघात की संभावना बहुत अधिक होती है। पे्रस कॉन्फे्रंस में इटरनल हॉस्पिटल के सीनियर मार्केटिंग मैनेजर वीरेन्द्र पारीक भी मौजूद थे।

———————————————————————————————-
Dr Rudra Dev Pandey, Sanjay Joshi, Virendra Pareek, Bikaner News, Bikaner Hindi News, Eternal Heart Care Centre & Research institute Pvt. Ltd. Consultant-interventional cardiology MD (internal Medicine)X DM (Cardiology) Dr Rudra Dev Pandey & Sinior Manager-Domestic Marketing Virendra Pareek Press Conference in Bikaner

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top