बीकानेर

पुष्करणा सावा के तहत… ‘मिनी भारत’ बनने को तैयार हो रहा शहर !

Pushkarna Sawa Mahadev Sang Hemandri Poster (Bikaner)

Pushkarna Sawa Mahadev Sang Hemandri Poster (Bikaner)

बीकानेर। मळ मास समाप्त होने के बाद से ही शहर में विवाह समारोह की तैयारियों तो शुरु हो गईं थी हीं साथ ही इस बार ओर अधिक तैयारियां इसलिए है कि पुष्करणा समाज का ऐतिहासिक और विश्वविख्यात पुष्करणा समाज का ओलम्पिक सावा जो है। देशभर में ही नहीं विदेशों में भी रहने वाले पुष्करणा समाज के लोगों का रुख बीकानेर शहर की ओर हो रहा है। हो भी क्यों न सावे के दिनों में बीकानेर शहर ‘मिनी भारत’ का रुप धारण जो कर लेता है। कहते हैं कि कोई दिल्ली से तो कोई महाराष्ट्रा से तो कोई कोलकाता से तो कोई बंगलूरू से। इस दौरान शहर में खुशी के माहौल के दौरान सड़कों पर उत्सव का माहौल धीरे-धीरे परवान चढ़ता जा रहा है। चौक व पाटों के शहर बीकानेर में विभिन्न चौकों में स्थित पान की दुकानें हों या पाटों पर आपस में चर्चाओं के साथ-साथ देर रात्रि तक पुष्करणा समाज के सावे को लेकर चर्चाए जोरों पर चल रही हैं। शहर के लगभग सभी भवन पहले से ही बुक हो चुके हैं और अब जिन्हें भवन की आस नहीं है वे खुले मैदान या सड़क पर ही व्यवस्थाएं करने में जुट रहे हैं। कहा जाता है कि शहर को एकता के धागे में इस सावे की खुशी पिरोती है। क्योंकि सावे वाले दिन ही विष्णु रुप (पैदल) ही दूल्हा दौड़ता है और उसके ठीक पीछे-पीछे बाराती भी उस दिन कई शादियों में जाने को उत्सुक रहता है।

Bikaner Mayor Bhawani Shankar Sharma (Bikaner)

Bikaner Mayor Bhawani Shankar Sharma (Bikaner)

शहर में हुई मेयर की बल्ले-बल्ले !

बीकानेर। शहर के अन्दरुनी क्षेत्रों के लोग जो दीपावली के मौके तक नगर निगम व शहर के भोले-भाले मेयर भवानीशंकर शर्मा को हाय-हाय की संज्ञा दे रहे थे वही मंगलवार को मेयर का आभार प्रकट करने से नहीं चूके। कारण साफ है कि मंगलवार को शहर में नगर निगम के कर्मचारियों ने मेयर भवानीशंकर शर्मा के निर्देश पर ऐसी साफ-सफाई कर डाली जिसे एकबारगी तो मेयर की बल्ले-बल्ले हो गई। सफाईकर्मियों ने न केवल नालों की सफाई की बल्कि कचरा उठा शहर से बाहर तक भिजवा दिया और जमकर शहर को ‘चमन’ कर दिया।

Shivaji Acharya (Bikaner)

Shivaji Acharya (Bikaner)

बीकानेर में है अनूठी परम्परा !
राजस्थान के बीकानेर ही नहीं बल्कि जोधपुर, पोकरण, जैसलमेर, फलोदी में भी पुष्करणा समाज के कई लोग रहते हैं लेकिन पुष्करणा समाज का यह अनूठा और ऐतिहासिक सावे का आयोजन अलमस्ती वाले शहर बीकानेर में होता है। तभी शहर से बाहर रहने वाले पुष्करणा समाज के लोग यहां आकर शहर की अनूठी परम्परा को देखकर दांतो तले अंगुली दबाते हैं और एक सुखद अनुभूति का अहसास करते हैं। -शिवाजी आचार्य

—————————————————————————————————–
Pushkarna Sawa, Pushkarna Olympic Sava, Bikaner News, Bikaner Hindi News, Sanjay Joshi

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top