बीकानेर

ब्राह्मण एकता के लिये कोलकाता से रवाना हुई कलश यात्रा / विप्र महाकुंभ हेतु राजस्थान में अभूतपूर्व जनसमर्थन, उत्साह : सुशील ओझा / विफा के राष्ट्रीय संयोजक सुशील ओझा की बीकानेर में पे्रस-कॉन्फे्रंस

Sushil Ojha Adressing Media in Bikaner

Sushil Ojha Adressing Media in Bikaner

Sushil Ojha Adressing Media in Bikaner

Sushil Ojha Adressing Media in Bikaner

Sushil Ojha Adressing Media in Bikaner

Sushil Ojha Adressing Media in Bikaner

Sushil Ojha Adressing Press Conference in Bikaner

Sushil Ojha Adressing Press Conference in Bikaner

Sushil Ojha Adressing Press Conference in Bikaner

Sushil Ojha Adressing Press Conference in Bikaner

Kolkata Se Vipra Mahakumbh Kalash Yatra Ravana Hone Se Purv Programme (Photo : sachhidanand pareek)

Kolkata Se Vipra Mahakumbh Kalash Yatra Ravana Hone Se Purv Programme (Photo : sachhidanand pareek)

Kolkata Se Vipra Mahakumbh Kalash Yatra Ravana Hone Se Purv Programme (Photo : sachhidanand pareek)

Kolkata Se Vipra Mahakumbh Kalash Yatra Ravana Hone Se Purv Programme (Photo : sachhidanand pareek)

बीकानेर, 8 दिसम्बर। जब तक ब्राह्मण समाज सशक्त नहीं होगा तब तक राष्ट्र को समृद्ध और सशक्त नहीं बनाया जा सकता, खुशहाल राष्ट्र के निर्माण में ब्राह्मण समाज की सक्रियता जरुरी है। राष्ट्रीय एकता और सामाजिक समरसता के उद्देश्य को लेकर ब्राह्मणों के वैश्विक संगठन ‘विप्र फाउण्डेशन’ द्वारा आगामी 16 दिसम्बर को राजधानी जयपुर में आयोजित ऐतिहासिक विप्र महाकुंभ के अधिकाधिक भागीदारी हेतू देश के 300 जिलों के यात्राओं के बाद अब प्रदेशव्यापी दौरे पर निकले राष्ट्रीय संयोजक सुशील ओझा ने यहां बताया कि विप्रों में अभूतपूर्व उत्साह देखने को मिल रहा है। उन्होंने बताया कि विप्र महाकुंभ के माध्यम से समाज और लोगों में जो भ्रम है व टूट जाएगा यही नहीं हमारी बड़ी सोच को एक झांकी-संकेत अर्थात् स्वाभिमान दिवस के रुप में मनाएंगे। शनिवार को यहां आनन्द निकेतन स्थित विप्र फाउण्डेशन [विफा] के कार्यालय में आयोजित पे्रस-कॉन्फे्रंस में राष्ट्रीय संयोजक ने ‘धारा प्रवाहÓ कहा कि विप्र महाकुंभ का आयोजन ब्राह्मण के साथ-साथ देश की प्रतिष्ठा से भी जुड़ा है। आज आम ब्राह्मण जाग चुका है, जहां तक एकता का सवाल है 16 दिसम्बर का दिन कम से कम एक लाख ब्राह्मण जब भवानी निकेतन के प्रांगण में एकत्रित होकर जोश के साथ अपनी उपस्थिति दिखलाएगा, अनेक बन्धनों-भ्रमों व समस्याओं का स्वत: समाधान निकाल लेगा। बकौल ओझा वर्तमान में जातीय संकीर्णता जैसी गंभीर परिस्थितियोंं का फैलाव भी खतरनाक है। वे बोले कि कुछ निहित लोग अपने स्वार्थ के लिए ऐसे कुचक्र चला रहे हैं लेकिन ऐसे में नियति और परम्परा दोनों दृष्टियों से ब्राह्मण ही इन पर रोक लगा सकता है। विफा की ‘सर्वे भवन्तु सुखिन:’ की मुहिम 4 वर्ष पूर्व ‘महाकुंभ’ के माध्यम से कोलकाता, गुवाहाटी और दिल्ली में शुरु की गई जिनमें ब्राह्मणों के साथ अन्य समाजों का भी अभूतपूर्व सहयोग मिला।

Report By Journalist Sanjay Joshi (Bikaner)

Report By Journalist Sanjay Joshi (Bikaner)

उन्होंने कहा कि हमारा अपना समाज, शहर मजबूत संगठित होगा तभी राष्ट्र स्तर पर ही बात होगी। उन्होंने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा कि विप्र से तात्पर्य ही ‘विशेष-प्रज्ञावन’ है और विप्र फाउण्डेशन ब्राह्मण समाज का इकलौता संगठन है जो 18 राज्यों में गतिशील होकर एक लाख से अधिक सदस्यों के साथ ब्राह्मण समाज को एक मंच पर लाकर उनकी प्रगति हेतु तत्पर है। विफा का ‘महाकुंभ’ के माध्यम से विप्रों में चेतना-जागृति का अभियान हमारी पीढ़ी व हजारों विप्र परिवारों को शिक्षा व चिकित्सा के क्षेत्र में संबल प्रदान कर रहा है। एक अन्य सवाल के जवाब में विफा के राष्ट्रीय संयोजक ने बताया कि गैर राजनैतिक ब्राह्मणों के वैश्विक संगठन में एक भी पदाधिकारी राजनीतिक नहीं है बल्कि समस्त राजनीतिक दलों के लोग महाकुंभ में शिरकत कर कंधे से कंधा मिलाकर साथ हैं। ओझा का कहना था कि आलोचक किसी भी बात की आलोचना कर सकता है मगर शिक्षा, स्वास्थ्य एवं समाज में परस्पर वैवाहिक सम्बन्धों की प्रगाढ़ता के साथ 11 प्रकल्पों को लेकर चल रहा संगठन किस प्रकार राजनीतिक कर सकता है। उन्होंने यह भी बताया कि बगैर राजनीतिक प्रतिस्पद्र्धा व मतभेद के बीते डेढ़ वर्षों में ही पूर्ण आकार में आए विप्र फाउण्डेशन ने देश के 82 उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे बच्चों को एक करोड़ 64 लाख के ऋण तथा हजारों परिवारों को 30 हजार रुपए वार्षिक मेडिक्लेम की सुविधा प्रदान की है। ओझा बोले कि विफा की कोई महत्वाकांक्षा नहीं है आगामी वर्षों में कुल 500 बच्चों को शिक्षा के क्षेत्र में प्रोत्साहित कर समाज में चेतना लाकर देश में समरसता कायम करने का भी अहम् कार्य किया है। शीघ्र ही युवाओं के रोजगार, संस्कृति, स्पोर्ट्स व विप्र बैंक-सिक्योरिटी की तरफ भी कदम बढ़ाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि यदि हमारे बच्चे शिक्षित होकर उच्च स्तर तक पहुंचेंगे तो संकीर्णता शब्द का स्वत: ही खात्मा हो जाएगा। ओझा का कहना था कि विफा किसी भी सामाजिक संगठन का नेतृत्व पंचायती नहीं बल्कि उनके सानिध्य में ही कार्य करेगा यही नहीं राष्ट्रीय स्तर के मुद्दों में अपनी सक्रिय भागीदारी को प्रमुखता से निभाएगा। पे्रस-कॉन्फे्रंस के दौरान संभाग प्रभारी ताराचंद सारस्वत, संगठन मंत्री परमानन्द ओझा, डा. सत्यप्रकाश आचार्य, मोहनलाल जाजड़ा, देवेन्द्र सारस्वत, राजेन्द्र ओझा, राजकुमार व्यास, रवि आचार्य, राकेश ओझा, राहुल पारीक, नन्दकिशोर गालरिया, शिवकुमार गौड़ ‘पटवारी’ सुभाष जोशी, रमेश पारीक भी मौजूद थे। सभी ने बीकानेर के हर वार्ड अर्थात् 60 बसों के 15 दिसम्बर को रवानगी का पुरजोर आश्वासन दिया। इस मौके उन्होंने यह भी बताया कि एकता के सूत्र में बांधने के उद्देश्य से विप्र फाउण्डेशन द्वारा विप्र महाकुंभ से पूर्व निकलने वाली कलश यात्रा 9 दिसबर से राजस्थान के सभी जिलों से होकर जयपुर के भवानी निकेतन में होने विप्र महाकुंभ में सपन्न होगी। यात्रा का जगह जगह भव्य स्वागत किया जायेगा। लकता से रेलमार्ग से गुडग़ांव स्थित मुय कार्यायल पंहुचेगी। वहां से वाहनों में रविवार रात्रि कोतपूतली में प्रवेश कर राजस्थान के दौरे पर निकलेगी। 10 दिसबर को नीमकाथाना, श्रीमाधोपुर, रिंगस, सीकर, नवलगढ़ होते हुए रात्रि झूझंनू विश्राम करेंगी। वहां से 11 दिसबर प्रस्थान कर चूरू, रतनगढ़, श्री डूंगरगढ़ होते हुए बीकानेर पंहुचेगी। यहां मंगलवार को शहर के विभिन्न इलाकों में कलश यात्रा का स्वागत किया जायेगा। यात्रा 12 दिसबर को लक्ष्मीनाथ मंदिर, कोडमदेसर के दर्शनकर देशनोक, नोखा होते हुए नागौर के लिये रवाना होगी। यात्रा प्रभारी नारायण पारीक ने बताया कि 13 दिसबर को जोधपुर, पाली, सुमेरपुर,14 दिसबर को सिरोही, उदयपुर, नाथद्वारा, राजसंमद, डीग,15 दिसबर को ब्यावर, अजमेर, किशनगढ़, जालौर होते हुए 16 दिसबर को सुबह जयपुर पंहुचेगी। कलश यात्रा में कलकत्ता नगर निगम के पार्षद विजय ओझा, सुभाष चंद्र शर्मा, राधेश्याम सुरावत,चंद्रशेखर आसोपा,पं सुरेन्द्र कुमार ओझा शामिल है। उन्होंने बताया कि यात्रा के दौरान जहां रात्रि विश्राम होगा वहां ब्राह्मण समाज की सर्वजातियों की बैठक भी आयोजित होगी।
———————————————————————————————-
Bikaner News, Bikaner Hindi News, Sanjay Joshi, Sushil Ojha, Tarachand Saraswat, Dr Satyaprakash Acharya, Parmanand Ojha, Vipra Mahakumbh, Vipra Foundation, Kolkata News, Kolkata Hindi News, Reporter Sachhidanand pareek

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top