बीकानेर

21 वर्षीया दीक्षार्थी वर्षा का स्वागत-अभिनन्दन / ‘संसार में सुख-दु:ख ही सबसे बड़ा दु:ख’

Urmila Sethia & Varsha Sethia (Gangashahar-Bikaner)

Urmila Sethia & Varsha Sethia (Gangashahar-Bikaner)

Urmila Sethia & Varsha Sethia (Gangashahar-Bikaner)

Urmila Sethia & Varsha Sethia (Gangashahar-Bikaner)

बीकानेर, 3 फरवरी। नाम वर्षा सेठिया पुत्री सुन्दरलाल सेठिया, उम्र 21 वर्ष, शिक्षा बी.कॉम प्रथम वर्ष एवं बीए, सीएस फाउण्डेशन, जन्म और मूल निवासी गंगाशहर की है। लेकिन शिक्षा व हाल निवास कोलकाता का है। संभाग मुख्यालय के जाने-माने इंटरनेशनल ट्रेड एनालिसिस्ट पुखराज चौपड़ा की बहन की दोहित्री वर्षा धर्म, कर्म और सांसारिक जीवन को समझ कर संयम के साथ कुछ दिनों बाद ही अपने 1008 आचार्य भगवन श्री रामेश जी के सानिध्य में दीक्षा ले रही हैं। शुक्रवार को पुखराज सुशीलकुमार चौपड़ा के निवास पर दीक्षार्थी वर्षा बहन का स्वागत, सम्मान, अभिनन्दन का एक कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस मौके वर्षा के दादा जेठमल सेठिया, नाना रिखबचन्द सोनावत, कमलचन्द बोथरा, मंजीत चौपड़ा, धापूदेवी सोनावत, केशरदेवी भूरा, मधु चौपड़ा, सनोज चौपड़ा, महेन्द्र सोनावत दीक्षार्थी की माताश्री उर्मिला सेठिया व शमिला डागा ने आज की ‘मंगल भावनाओं’ में शिरकत की। चौपड़ा के अनुसार 5 फरवरी को समाज द्वारा प्रात: 9 बजे भव्य बन्धोली (बरघोड़ा-जुलूस) निकाली जाएगी, जिसमें दीक्षार्थी वर्षा के लिए सैकड़ों-हजारों लोग मंगल भावनाएं व्यक्त करेंगे, यह बन्धोली गंगाशहर में विभिन्न मार्गों से होते हुए जैन जवाहर विद्यापीठ भीनासर पहुंचेगी। जबकि आगामी एक अपे्रल 2012 को रायपुर में वर्षा पूर्णतया दीक्षा ले लेंगी।

Report By Journalist Rajeev Joshi (Bikaner)

Report By Journalist Rajeev Joshi (Bikaner)

आज दोपहर विशेष बातचीत में वर्षा दीक्षा पूर्व ही अपने ‘श्रीमुख’ से उद्गार व्यक्त कर रही थी उसमें लगभग ‘परमात्मा’ को प्राप्त कर लेने सहित सांसारिक जीवन-मरण, सुख-दुख के साथ अनेक ज्ञान भरे शब्दों की वर्षा ने अभी से कर रही थी। बकौल दीक्षार्थी वर्षा साढ़े तीन वर्षों पूर्व जब से जीवन व्यतीत करने की समझ पड़ी तभी से साध्वीवृत्ति को अपनाने की ठान ली तथा परिजनों को बतला दिया। वे बोलीं कि संसार में सुख-दुख ही सबसे बड़ा दुख है। कर्म रहेंगे आत्मा के साथ तो जन्म-मरण होगा इसलिए दुखों का अंत करने के लिए कर्मों का अन्त करना जरुरी है जो कि संसार में रहते हुए संभव नहीं है यही नहीं पूर्णत: नष्ट करना भी संभव नहीं है। वर्षा के मुताबिक कर्मों को नष्ट करने का सर्वश्रेष्ठ मार्ग है संयम, पे्रम, मोह, लगाव यह सब एक आवरण है उसे हटाने का साधन-मार्ग है संयम। एक प्रश्नोत्तर में गहरे शब्दों व अनुकरणीय तथ्यों को प्रकट करने वाली दीक्षार्थी का कहना था कि जिस प्रकार घर के किसी प्राणी की मृत्यु होने पर समय के साथ सभी लोग समझते हुए अहसास कर लेते हैं ठीक उसी प्रकार उनके साध्वीवृत्ति में दीक्षा लेने पर सभी की समझ भी उनके अनुरुप बन जाएगी। उन्होंने साथ ही कहा कि हमारे कर्मों का फल ही हमें मिल रहा है, न पिछले जन्मों के मां-बाप उन्हें याद हैं, ना आने वाले जन्म में ये मां-बाप रहेंगे, काम धर्म ही आना है। ऐसे में हर परिवार धर्म से जुड़े उससे बढिय़ा मार्ग क्या हो सकता है। इसी मौके दीक्षार्थी वर्षा की मां धार्मिक प्रवृत्ति की गृहिणी महिला उर्मिला ने बताया कि उन्हें खुशी है कि उनकी पुत्री दीक्षा ले रही हैं। साथ ही यह उन परीक्षाओं में भी खरी उतरी जिसमें इसे आगे का सारा जीवन व्यतीत करना है। उर्मिला सेठिया के मुताबिक हमेशा प्रसन्न रहना और रखना साथ ही लक्ष्य के प्रति जागरुक और समर्पित उनकी पुत्री सुख आनन्द और कल्याण के पथ पर चलकर आचार्य भगवन श्री रामेश जी की पे्ररणा से अपने पर दादाजी व छोटे दादा जी (जिन्होंने भी दीक्षा ली थी) के अनुरुप सभी परिजनों को राजी करके बगैर बन्धन दीक्षा प्राप्त कर रही हैं। उन्होंने यह भी बताया कि उन्हें भी वर्षों हो गए व्याख्यान सुनते मगर कभी ऐसे भाव नहीं बने थे, दीक्षार्थी वर्षा ने विनम्रता से बड़ों की आज्ञानुसार ऐसी ‘ऊर्जा’ प्राप्त कर ली जो सभी बन्धनों से मुक्त होकर ‘मुक्ति’ के मार्ग की ओर पथारुढ हो रही हैं।

Pukhraj Chopra (Bikaner)

Pukhraj Chopra (Bikaner)

मेरा मानना है कि महिलाएं पुरुषों की बनिस्बत अधिक सेंसेटिव होती हैं, मातृशक्ति देवीस्वरुपा जगजननी कही जाने वाली नारी में संयमता, धैर्य और वैराग्य की भावना इतनी प्रबलता से जागृत होती है जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। ‘हमारी’ दीक्षार्थी वर्षा भी इसी का एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत कर रही हैं, उनके भाव और लक्ष्य मुझे ‘अवाक’ करते हैं। -पुखराज चौपड़ा

—————————————————————————————–
Bikaner News, Bikaner Hindi News, Journalist Rajeev Joshi, Rajiv Joshi, Varsha Sethia, Urmila Sethia, Pukhraj Chopra

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top