बीकानेर

‘फोर जी’ के माध्यम से ‘विफा’ चाहता खुशहाल भारत : सुशील ओझा / विप्र फाउण्डेशन के राष्ट्रीय संयोजक का देशव्यापी दौरा जारी / श्रीडूंगरगढ़ में विफा की बैठक में अधिकाधिक संख्या में पहुंचने का आह्वान / ‘दिल्ली महाकुंभ’ में राजस्थान देगा 25 हजार ‘विप्र भागीदारी’

Sushil Ojha Adressing Vipra Foundation in Shridungargarh (Bikaner)

Sushil Ojha Adressing Vipra Foundation in Shridungargarh (Bikaner)

Pooja Pareek & Sushil Ojha in Shridungergarh (Bikaner)

Pooja Pareek & Sushil Ojha in Shridungergarh (Bikaner)

बीकानेर, 4 दिसम्बर। विप्र फाउण्डेशन (विफा) के राष्ट्रीय संयोजक सुशील ओझा ने कहा कि सर्वाधिक ज्ञानवान, प्रज्ञावान और लगभग हर क्षेत्र में आगे रहने वाले ब्राह्मण समुदाय के पिछडऩे या अत्याचार जैसा कुछ नहीं है। उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों के पास सबकुछ है आवश्यकता उसे ठीक से व्यवस्थित करने की है। आगामी 24-25 दिसम्बर को देश की राजधानी दिल्ली में ‘विफा’ के तृतीय महाकुंभ हेतु ‘देशव्यापी आमंत्रण’ दौरे पर निकले ओझा ने रविवार को बीकानेर जिले की श्रीडूंगरगढ़ तहसील एवं करीबी कस्बों के विप्रजनों की एक बैठक में आह्वान किया कि राजस्थानभर से जहां 25 हजार विप्रजन इस महाकुंभ में शिरकत करेंगे वहां बीकानेर जिले से भी सर्वाधिक संख्या होनी चाहिए। श्रीडूंगरगढ़ के मुख्य बाजार स्थित पुस्तकालय में वरिष्ठतम समाजसेवी वैद्य रमेश चन्द्र शर्मा की अध्यक्षता में ओझा ने कहा कि ब्राह्मणों की अनेक संस्थाएं-संगठन है फिर भी ‘विफा’ की आवश्यकता क्यों पड़ी साथ ही 2 वर्षों के अल्प समय में देश के 13 प्रदेशों व लगभग 300 जिलों में विफा की शाखाओं के विस्तार ने लाखों विप्रजनों को एक ऐसा मंच प्रदान किया है जो हमारी आने वाली पीढ़ी में शिक्षा, चिकित्सा, रोजगार सहित विविध पहलूओं-उद्देश्यों के साथ उन्हें आगे बढ़ाएगा।

Report By Journalist Sanjay Joshi

Report By Journalist Sanjay Joshi

उन्होंने ब्राह्मणों के बच्चों के शिक्षा के गिरते स्तर पर चिंता व्यक्त करते हुए बताया कि विफा ने बीते वर्ष 51 होनहार विद्यार्थियों को 1 करोड़ 2 लाख रुपए के ऋण चैक प्रदान कर प्रोत्साहित किया है। साथ ही राजस्थान प्रदेश मात्र में 400 लोगों के बीमा कार्ड बनाकर 50 हजार रुपए तक प्रत्येक को नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा प्रदान की गई है। ओझा का कहना था कि ‘विफा’ एक ऐसा गैर राजनैतिक संगठन है जो समस्त विप्रजनों को एक-दूसरे से जोड़ रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि हालांकि विफा के पास ना जादू की छड़ी है ना कोई खजाना। उन्होंने अनेक उदाहरणों के साथ उद्देश्यों व विभिन्न शंकाओं पर भी प्रकाश डालते हुए भ्रांतियां फैलाने वालों को गुजारिश के साथ एकजुटता में सहभागी बनने की अपील की। कुछ बातों-मुद्दों पर अपनी बात विस्तृत करते हुए विफा संयोजक ने ‘मन’ बड़ा करते हुए एकमत-संकल्पित होने की बात भी कही। साथ ही उन्होंने बताया कि दिल्ली में महरौली-गुडग़ांव मार्ग पर छत्तरपुर मंदिर परिसर में होने वाले दो दिवसीय कार्यक्रम में ‘फोर जी’ गाय, गंगा, ग्रीनरी और गल्र्स (मातृशक्ति) के माध्यम से भारत को खुशहाल व उन्नति की राह में मार्ग प्रशस्त करेंगे। 51 मिनट के अपने धारदार वकतव्य के दौरान ओझा ने यह भी कहा कि ब्राह्मण को अब ब्राह्मण की निन्दा बंद करनी होगी तभी हम असल मायने में विकास कर सकेंगे। लोगों में खूब ललक है, युवा व बुजुर्ग भी आधुनिक सोच के साथ सहयोग दें इससे पूर्व ब्राह्मण नेता सोहनलाल ओझा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में ओझा का स्वागत किया गया। ओझा ने कहा कि विफा के गठन एवं लाभ से अवगत कराते हुए एजेण्डे को गांव-गांव, ढाणी-ढाणी प्रचारित करने पर जोर दिया। विफा के प्रदेश सचिव परमानन्द ओझा ने कहा कि कलयुग में संगठन में शक्ति प्रचलित है। ब्राह्मणों की दुर्दशा असंगठित रहने से हुई है, विजन ट्वेन्टी-ट्वेन्टी के साथ विफा के तीसरे महाकुंभ (दिल्ली) में अधिकाधिक संख्या में पहुंचने की अपील के साथ उन्होंने कहा कि तभी विप्रों की ऐतिहासिकता, दिव्यता और भव्यता प्रदर्शित होगी। वरिष्ठ विप्र नेता ताराचन्द सारस्वत ने भी विप्रों की हर प्रदेश में बहुसंख्या पर जोर देते हुए कहा कि बंटी हुई जातियां हमें अलग-थलग कर रही है। ऐसे में एकजुटता से सामूहिक प्रयास कर विप्र महाकुंभ में जाने के कार्यक्रम निर्धारण पर गंभीरता से मनन करने की बात पर जोर दिया। नगरपालिका श्रीडूंगरगढ़ के पूर्व चैयरमेन रामेश्वर पारीक, पृथ्वीराज व्यास, गौरीशंकर पारीक, नारायण चन्द मोर, लक्ष्मीनारायण शर्मा, नारायण पारीक ने भी विचार रखे। इस अवसर पर लक्ष्मीनारायण तावणिया, पार्षद संजय शर्मा, राजेश सारस्वत, भंवरलाल पुरोहित, डा. सुरेश शर्मा, कन्हैयालाल सारस्वत, शुभकरण पारीक, राधेश्याम सारस्वत, लीलाधर शर्मा, रतनलाल सारस्वत, रिक्ताराम शर्मा, महावीर सारस्वत, रामचन्द्र शर्मा सहित अनेक गणमान्य विप्रजन मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन ओमप्रकाश गुरावा ने करते हुए अपनी बात कही। इस मौके ओझा ने विफा के ‘विप्र वैवाहिकी’ उद्देश्य से पे्ररित होकर श्रीडूंगरगढ़ के श्याम सुन्दर पुरोहित (पारीक) द्वारा अपनी पुत्री पूजा की देवेन्द्र शर्मा के पुत्र प्रतीक शर्मा के साथ अन्तरउपजातिय विवाह करने पर पारीक परिवार व पूजा को शुभकामनाएं पे्रषित कीं। उन्होंने बताया कि विफा की इस पहल के बाद दो वर्षों में ऐसी अनेक शादियां हो चुकी हैं। ओझा ने इससे पूर्व रतनगढ़, जसवन्तगढ़, सुजानगढ़ में भी विप्रजनों की बैठकें लेकर अधिकाधिक संख्या में दिल्ली पहुंचने का आह्वान किया। वे बीते 15 नवम्बर से देशव्यापी दौरे पर हैं जिसके तहत झारखण्ड, यूपी, बिहार, गुजरात, हरियाणा होते हुए राजस्थान के जयपुर, पाली, सिरोही, जालौर, चूरू व बीकानेर जिले में पहुंचे थे वहीं जिलेवाइज कस्बों में बैठकों के दौर विभिन्न जोनल पदाधिकारीगण दौरा कर रहे हैं। जबकि सभी की मॉनिटरिंग दिल्ली से महाकुंभ के प्रभारी भरतराम तिवारी, पवन पारीक व टाइगर अशोक राजपुरोहित कर रहे हैं।
————————————————————————————–
Vipra Foundation, Sushil Ojha, Pooja Pareek, Vipra Mahakumbh, Sushil Ojha Adressing Vipra Foundation in Shridungargarh (Bikaner), Pooja Pareek & Sushil Ojha in Shridungergarh (Bikaner), Bikaner News, Bikaner Hindi News, Sanjay Joshi, Journalist Sanjay Joshi

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top