बीकानेर

डॉक्टर साब ! ढूंढो भाटी जी की ‘दवा’ / वरना अभी तो एक साल भी नहीं हुआ है….

बीकानेर। देवीसिंह भाटी यह कोलायत की माटी का वह सपूत है जो ग्रामीण किसान और मजदूर सहित उपेक्षित वर्ग के हक हकूक के लिए समय-समय पर आंदोलनों की राह पकड़ कर मरने पर उतारु हुआ है। फिर से दो दिनों से ‘अन्नदाताओं’ के लिए ‘अन्न’ त्याग कर कपिल मुनि की तपोस्थली पर कोलायत सरोवर के समीप तपती गर्मी में बीते 48 घण्टों से बैठे हैं। कहने में कोई हर्ज नहीं कि उन्हें आंदोलनों का जैसे ‘रोग’ सा है क्योंकि वे किसी पीड़ित का दु:ख दर्द सहन नहीं कर सकते।

Report Updated By Rajeev Joshi (Bikaner)

Report Updated By Rajeev Joshi (Bikaner)

दबंग ‘देवसा’ की एक आवाज पर जहां हजारों समर्थकों का रैला का रैला एकत्रित होकर ‘सिंहासन डोलाने’ और ‘अंगड़ाई-लड़ाई’ तक के नारे बुलंद करने लगता है। अब इस बार किसानों की भूमि अवाप्ति के एक मामले को लेकर वे आंदोलनरत है। इस आंदोलन-भूख हड़ताल से प्रशासन और सरकार को 15 दिनों पूर्व अवगत कराने के बाद भी ना प्रशासन चेता न सरकार। अब प्रशासन के नाम पर बीकानेर को एक युवा डॉक्टर कलक्टर साब मिले हुए हैं। बताते हैं कि डॉक्टर साब हर ‘समस्यारुपी रोग’ का समाधान चुटकियों में निकालना जानते हैं लेकिन लगता है कोलायत आंदोलन इंजी ‘रोग’ उनके हाथों से निकल रहा है। युवा और ऊर्जावान कलक्टर में शायद इस बार इतना माद्दा नहीं दिख रहा कि वे राजनीति के दिग्गज देवीसिंह भाटी को संतुष्ट कर पाएं। अगर इस आंदोलन की चिंगारी को थामना है तो सरकार का उच्च स्तरीय प्रतिनिधित्व जरुरी सा हो गया है। वहीं अपने ‘टाईगर’ और दूसरे ‘डॉक्टर’ भी पशोपेश में है कोलायत में कडे सुरक्षा-जाब्तों के बावजूद अनेक वाहनों के शीशे तुड़वा चुके हैं। भाटी सहित उनके दो दिनों के धरने-प्रदर्शन ने लोगों में अपने तीखे तेवर दिखाते हुए तहसील कार्यालय में हंगामा किया। अगर ये आंदोलन लम्बा खिंचा तो भाटी समर्थकों के धीरज का बांध टूट सकता है और आने वाली इस ‘बाढ़’ में बीकानेर जिले सहित राजस्थान में अमन-चैन को भी धक्का लग सकता है। बहरहाल भाटी की मांगों का जिला प्रशासन के पास समाधान नहीं है। इसका समाधान मुख्यमंत्री स्तर पर सरकार द्वारा ही किया जाना है। तो क्या मैसेज प्रोपर कन्वे नहीं हो रहा या हो रहा है तो समस्या कहां और क्यों हल नहीं हो रही ? खैर बात सरकार और प्रशासन स्तर की है। भाटी की राजनीतिक सोच लम्बी है और उनका यह आंदोलन जितना लंबा खिंचेगा और जैसे-जैसे इसका राजनीतिकरण होगा तो ये गहलोत सरकार और कांग्रेस के गले की भी फांस बन सकता है।
———————————————————————————————–
Bikaner News, Bikaner Hindi News, Rajasthan News, Rajasthan Hindi News, Rajeev Joshi, Devisingh Bhati

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top