बीकानेर

पूनरासर मारुती बाबा का चमत्कार / जापान में जब जली पूनरासर बाबा की जोत

Punrasar Hanuman Ji Temple. {BIKANER NEWS PHOTO : CHHOTIKASHI.COM}

Punrasar Hanuman Ji Temple. {BIKANER NEWS PHOTO : CHHOTIKASHI.COM}


बीकानेर। संसार के बहुत कम देश हैं जो पवनपुत्र हनुमान के चमत्कारिक कृत्यों तथा उनके देवत्व स्वरुप से परिचित नहीं है। विश्व के भिन्न-भिन्न भू-भागों में हनुमानजी के प्राचीन अवचीत देवालय बने हुए हैं। विदेशों में जहां-जहां भारतीय हनुमंत भक्त रहते हैं वहां-वहां भारतीय परम्परा के अनुरुप ही अंजनीनंदन की पूजा-अर्चना होती है। जापान के टोक्यो शहर स्थित भारतीय दूतावास में भी पूनरासर बालाजी के प्रबल भक्त सूर्यप्रकाश चाण्डक कार्यरत हैं। चाण्डकजी मूलत: सरदारशहर के जाए जन्मे हैं। उनकी अपनी इष्टदेव के प्रति गहन अनुरक्ति है। उन्होंने पूनरासर बालाजी के पूजारी रतनलाल बोथरा को टोक्यो आकर जापान स्थित भारतीय दूतावास में हनुमंत प्रभू की जोत जगाने का आग्रह किया। बालाजी के भक्त की पुकार पर पूजारी रतनजी पूनरासर से दिल्ली और दिल्ली से टोक्यो के एयरपोर्ट पर उतरे तो वहां कस्टम और जांच एजेन्सियों ने उन्हें रोक लिया। वे अपने साथ पूनरासर बालाजी की स्वर्ण प्रतिमा, पूजा का विशाल धूपिया तथा 5 किलो से गोबर के एवं गौ घृत साथ लेकर गए थे। उपरोक्त सभी वस्तुएं जापानी अधिकारियों के लिए आश्चर्यकारी थी।
Report By Journlist Sanjay Joshi {Bikaner-Rajasthan}

Report By Journlist Sanjay Joshi {Bikaner-Rajasthan}

हनुमानजी की प्रतिमा को देखकर अधिकारी ने तपास से सिर नवाकर पूछा ‘ओ मंकी गॉड’ जिस पर पूजारी रतनजी ने कहा कि हां यह हनुमंत प्रभू की प्रतिमा है तथा आप बडे सौभाग्यशाली हैं जिन्हें बालाजी महाराज के दर्शन हो रहे हैं। पूजारीजी के माथे पर तिलक छपा था तथा उनके पास चिमटा, लोटा छोटा था और कड़ों से भरा थैला भी था। ये सभी चीजें साथ ले जाना वहां मना होता है लेकिन पूनरासर बालाजी की रजा को दूसरा कौन बदल सकता है। पूजारीजी को एयरपोर्ट से बाहर जाने दिया गया जहां चाण्डक परिवार स्वागतार्थ तैयार खड़ा था। वहां से वे टौक्यो शहर के मध्य में 55 तल्ला बिल्डिंग थी जिसमें 28 वें तल्ले पर स्थित भारतीय दूतावास से पहले पूनरासर बाबे की विशाल ध्वजा टांगी गई, फिर धूमधाम से जोत का कार्य प्रारम्भ किया गया। इस मौके पर काफी संख्या में भारतीय मौजूद थे। साथ ही बिल्डिंग में धुंआ करने की मनाई थी जब जोत का धुंआ होगा तो यहां स्वचलित अलार्म बजने लगेगा। लेकिन पूजारी ने कहा कि हनुमंत प्रभू हमारी मदद करेंगे। कहने भर की देर थी बाबा की बहुत आकर्षक जोत तैयार हुई सभी ने इस दिव्य जोत के दर्शन किए तथा पूजारीजी ने मोली, तांती बांधी तथा उन्हें आशीर्वाद प्रदान किया। अद्भुत चमत्कारी शारीरिक व्याधि घर में भूत-प्रेत, मानसिक परेशानी आदि निवारण धन, यश, मान, पद, प्रतिष्ठा, उन्नति, स्वास्थ्य, सुख, वाहन, संतान, पत्नि सुख, दीर्घायु भाग्योदय, पति सुख, आर्थिक उन्नति आदि दर्शन से हितकारी हैं। तत्पश्चात् बोथरा दूतावास की ओर से विशिष्ट मेहमान का दर्जा प्रदान कर उन्हें जापान के सभी शहरों में सम्मानपूर्वक भ्रमण कराया गया।
आस्था के आकर्षण का केन्द्र है पूनरासर धाम
राजस्थान में अनेक प्रसिध्द हनुमान मंदिर हैं जिनमें बीकानेर जिले की श्रीडूंगरगढ़ तहसील के गांव पूनरासर का बालाजी मंदिर भी अपनी प्राचीनता एवं मान्यता के कारण लगभग 250 वर्षों से भक्तों की आस्था और आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। जयपुर-बीकानेर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 11 पर सेरुणा गांव से 16 किलोमीटर दूर उत्तर में जाने पर पूनरासर गांव आता है। पक्की सड़क यहां बनी हुई है। दस हजार चौरासी वर्ग गज के विशाल पर कोटि के ठीक बीचों-बीच हनुमान का विग्रह बना हुआ है। कोई एक दशक पूर्व यहां प्राचीन मंदिर था परन्तु अब इसका विस्तार कर अन्य मंदिर बना दिया गया है।
Punrasar Hanuman Ji

Punrasar Hanuman Ji

मंदिर परिक्षेत्र की विशालता के कारण बडे मेलों के वक्त एक लाख से अधिक श्रध्दालूओं के इकट्ठा होने पर भी हनुमानजी के दर्शन करने में किसी को असुविधा नहीं होती। पूनरासर धाम अपनी कई विशेषताओं के कारण प्रसिध्द है। कंधों पर धोटा एवं एक हाथ में ढाल थामे जन-मन के प्रतिपालक रक्षक वीर हनुमान है। स्मरण मात्र से अपने भक्तों के दु:ख दूर करते हैं। सम्पूर्ण भारत भर से भक्तजन यहां दर्शन करने पधारते हैं। हजारों की संख्या में लोग पैदल चलकर यहां अपनी श्रध्दा व्यक्त करते हैं श्री पूनरासर हनुमानजी के मंदिर की स्थापना विक्रम संवत् 1775 के जेष्ठ सुदी पूर्णिमा को हुई। मंदिर की स्थापना बोथरा (जैन) परिवार ने की आज भी वो पूजारी हैं। यहां काफी चमत्कार हुए हैं। कुंए का मीठा पानी मीठा हो गया, ऊंट चोर को सबक दिया आदि।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Most Popular

To Top