झालावाड़

झालावाड़,मोबाईल डिलिटल प्लेनेटोरियम से बच्चे जानेंगे अंतरिक्ष के रहस्य

छोटीकाशी डॉट कॉम,अमितअग्रवाल,झालावाड़।आदिकाल से मानव की आकाश में जगमगाते लाखों-करोड़ों तारों, चन्द्रमा, सौरमण्डल, नक्षत्रों को देखकर उनके बारे में जानने की जिज्ञासा सदा से ही रही है। झालावाड़ जिला प्रशासन ने विशेषकर स्कूली बच्चों को अंतरिक्ष के रहस्यों के बारे में ज्ञानवर्धक जानकारियां देने हेतु अहमदाबाद की फर्म आई डाइग्नोसिस द्वारा निर्मित डिजिटल प्लेनेटोरियम का प्रदर्शन शुक्रवार को मिनी सचिवालय स्थित ऑडिटोरियम में किया।
इस दौरान जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी सहित जिला स्तरीय अधिकारियों, कर्मचारियों, पत्रकारों, स्कूली शिक्षकों-विद्यार्थियों ने डिज़ी डोम में अंतरिक्ष में स्थित तारों, सौरमण्डल, नक्षत्रों, ग्रहों, उपग्रहों तथा चन्द्रमा की खोज हेतु विभिन्न देशों द्वारा भेजे गए अंतरिक्ष यानों के बारे में जानकारी प्राप्त की। इसके साथ-साथ भारत के पहले प्रथम अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा, प्रथम भारतीय अंतरिक्ष महिला यात्री कल्पना चांवला तथा सुनिता विलियम्स के बारे में जानकारी प्राप्त की। 3डी डिज़ी डोम में अंतरिक्ष की यात्रा करने के पश्चात् विद्यार्थियों ने बताया कि उन्हें यहां आकर अंतरिक्ष के रहस्यों को जानना चाहते हैं। वे भी एस्ट्रानोट बनकर अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा, कल्पना चांवला एवं सुनिता विलियम्स की भांति अंतरिक्ष की यात्रा कर अंतरिक्ष के रहस्यांे की जानकारी सम्पूर्ण मानव जाति के लिए उपलब्ध कराकर देश-प्रदेश का मान बढ़ाना चाहते हैं। अहमदाबाद की फर्म आई डाइग्नोसिस के प्रतिनिधि विकास पटेल ने बताया कि यह देश का पहला डिजिटल प्लेनेटोरियम चलित (मोबाईल) है जिसको एक कार की डिक्की में भी रखकर कहीं पे भी ले जाया जा सकता है। इसमें 180 डिग्री का 3डी प्रोजेक्टर और 3डी साउण्ड सिस्टम होता है जो कि एनॉलोग और स्थाई रूप से स्थित होने वाले अन्य प्लेनेटोरियम से बेहतर है। अब विद्यार्थियों को प्लेनेटोरियम जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी बल्कि स्वयं प्लेनेटोरियम चलकर उनके विद्यालय आएगा। इसमें करीब 50 बच्चों को एक साथ खगोल विज्ञान की शिक्षा दी जा सकती है। इसमें विभिन्न आयु वर्ग एवं बौद्धिक क्षमता के पहली से बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए चंदा मामा पर पप्पी, जर्नी टू वण्डर लैण्ड, गैलिलियो स्काय, तारे जमीन पर जैसी 20 फिल्में फर्म द्वारा तैयार की गई हैं। उन्होंने बताया कि डिजिटल प्लेनेटोरियम एक डोम के आकार का होता है जिसे इन्फ्लेट और डीफ्लेट करने के लिए औद्योगिक पंखे का इस्तेमाल किया जाता है। इस मौके पर अतिरिक्त जिला कलक्टर भवानी सिंह पालावत, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविन्द्र शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक सुरेन्द्र सिंह गौड़, गुन्जन शाह, हार्दिक वाई. चौकशी आदि उपस्थित थे।
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top